ट्रैक पर रैपिड रेल

By: Inextlive | Publish Date: Sun 06-Nov-2016 07:41:27
A- A+
ट्रैक पर रैपिड रेल

- गाजियाबाद स्थित एक वर्कशॉप में आरआरटीएस का प्रजेंटेशन, 20 दिन में बनेगी फाइनल डीपीआर

- एमडीए, रेलवे, ट्रांसपोर्ट व फाइनेंशियल बॉडी समेत एक्सपर्ट ने जांच की

MEERUT। मेरठ से दिल्ली का सफर केवल एक घंटे में पूरा कराने वाली रैपिड रेल की फाइनल डीपीआर 20 दिन में तैयार करने का टारगेट रखा गया है। गाजियाबाद स्थित एक होटल में रखी गई वर्कशॉप में प्रोजेक्ट की बारीकियों को समझ एक्सपर्ट ने हाईस्पीड ट्रेन को हरी झंडी दिखा दी। इसके साथ ही इस माह के अंत तक फाइनल डीपीआर सबमिट करने के निर्देश भी जारी किए गए।

एक्सपर्ट ने जांचा प्रोजेक्ट

शनिवार को गाजियाबाद स्थित एक होटल में आरआरटीएस (रेपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम) की ड्राफ्ट डीपीआर का प्रजेंटेशन हुआ। वर्कशॉप में उपस्थित एनसीआरटीसी (नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन लिमिटेड) के एमडी विनय कुमार ने योगेन्द्र नारायण समिति की सिफारिशों पर शामिल ड्राफ्ट डीपीआर(डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) पेश की। मेरठ कमिश्नर आलोक सिन्हा व एमडीए वीसी योगेन्द्र यादव के साथ वर्कशॉप में भाग लेने पहुंचे। प्रोजेक्ट के नोडल अधिकारी विवेक भास्कर ने बताया कि आरआरटीएस प्रजेंटेशन का उद्देश्य स्टेक हॉल्डर्स समेत फाइनेंशियल बॉडीज को प्रोजेक्ट की बारीकियों से अवगत कराना था।

20 दिन में फाइनल डीपीआर

विवेक भास्कर ने बताया कि वर्कशॉप में शामिल जापान बैंक, एशियन बैंक व व‌र्ल्ड बैंक के प्रतिनिधियों समेत रेलवे, सेंट्रल गर्वमेंट, ट्रांसपोर्ट, वीसी जीडीए, आईटी मिनिस्ट्री, एनसीआटीसी समेत सभी विभागों के समक्ष आरआरटीएस हाईस्पीड ट्रेन का प्रजेंटेशन दिया गया। उन्होंने बताया इस दौरान एक्सपर्ट्स की ओर से आए सुझावों को डीपीआर में पहले ही शामिल कर लिया गया था। जिसके बाद जल्द से जल्द फाइनल डीपीआर सबमिट करने की बात पर जोर दिया गया.

डीपीआर पास होते ही काम शुरू

नोडल अफसर ने बताया कि फाइनल डीपीआर को चीफ सेक्रेटरी को दिखाया जाएगा। जिसके डीपीआर सबमिट कर दी जाएगी। शासन से मंजूरी मिलते ही कार्यदायी संस्था एनसीआटीसी फाइनेंशियल बॉडी से बजट एरेंज कर काम शुरू कर देगी।

- - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

बॉक्स

62 मिनट में पूरा होगा 90 किमी का सफर

- शहर में हाईस्पीड ट्रेन के होंगे 17 स्टेशन

- मेट्रो से तीन गुना यानि 180 किमी प्रति घंटा की स्पीड

- ट्रेन में कुल कोच की संख्या होगी 12

- 60 किमी एलीवेटेड व 30 किमी होगा अंडरग्राउंड ट्रैक

- प्रोजेक्ट का कुल बजट 21 हजार 274 करोड़

- प्रोजेक्ट का इकॉनोमिक इंटरेस्ट रिटर्न रेट 5.78 प्रतिशत

ये होंगे मुख्य स्टेशन

सरायकालेखां, आनंद विहार, साहिबाबाद, मोहनगर, गाजियाबाद, मुरादनगर, दुहाई, गुलधर, मोदीनगर, मोहीउद्दीनपुर व परतापुर.

वर्कशॉप के दौरान मौजूदा अफसरों ने प्रोजेक्ट की बारीकियों को समझा है। इसके साथ ही प्रजेंटेशन के दौरान कुछ सुझाव दिए गए, जिनको डीपीआर में पहले ही शामिल कर लिया गया था। इस माह के अंत तक फाइनल डीपीआर तैयार कर ली जाएगी.

- विवेक भास्कर, नोडल अधिकारी

inextlive from Meerut News Desk