- डायवर्जन के साथ सिंगल रोड से लग रहा जाम

Meerut. कांवडियों के स्वागत में पुलिस प्रशासन पूरी तरह से सजग है. शहरों के प्रमुख रुटों पर कट बंद कर और लोकल ट्रैफिक को सिंगल रोड में समेट दिया गया है. ऐसे में पहले से सोहराबगेट बस डिपो के प्रबंधन को भैंसाली डिपो के हजारों यात्रियों और कांवडियों के हुजूम को संभालना भारी पड़ रहा है. अव्यवस्था के कारण जाम लगातार बढ़ता जा रहा है.

थमे रहे गाडि़यों के पहिए

शनिवार की तरह रविवार को सोहराबगेट डिपो के बाहर बैंक कालोनी से गांधी आश्रम तक दुपहिया और चौपहिया वाहनों के पहिए रेंगते रहे. डिपो से निकलने वाली बसों के कारण दिनभर डिपो के आसपास जाम लगा रहा. ऐसे में डिपो आने वाले यात्रियों के साथ आमजन को भारी परेशानी झेलनी पड़ी. लोगों ने विकल्प के तौर पर बस डिपो के आसपास नेहरुनगर, फूलबाग कालोनी, कल्याण नगर, कैलाशपुरी आदि कालोनियों में से गाडियों को निकालना शुरु कर दिया. ऐसे में कालोनियों में भी दिनभर वाहनों का शोर गंूजता रहा.

जगह को लेकर तनातनी

हर साल की तरह इस साल भी भैंसाली डिपो और सोहराबगेट डिपो के बीच बसों को बस स्टैंड में खड़ा करने को लेकर तनातनी है. सोहराबगेट डिपो अपनी बसों को प्राथमिकता के आधार पर डीजल लेने और सवारियों को बैठाने के लिए डिपो में जगह दे रहा है. ऐसे में भैंसाली डिपो की बसों की बस अडडे के बाहर कतारें लग जाती है. बसों की संख्या अधिक होने के कारण भैंसाली डिपो की बसों को डिपो के बाहर रोड साइड खड़ा किया जा रहा है.

हरिद्वार से खाली आ रही बसें

हरिद्वार जाने वाले कांवडियों की संख्या में रोजाना हजारों की संख्या में इजाफा हो रहा है. ऐसे में हरिद्वार जाने वाली बसों में तो कांवडियों की भारी भीड़ है लेकिन हरिद्वार से मेरठ आने वाली बसों को यात्री नही मिल रहे. ऐसे में रोडवेज को भी एकतरफा कमाई से ही संतोष करना पड़ रहा है.

रुट डायवर्जन और कट बंद होने के कारण छोटे वाहनों को भी अब गांधी आश्रम से घूमकर आना पड़ रहा है, जबकि रोडवेज बसों को पहले से ही गांधी आश्रम से टर्न दिया जा रहा है जिससे जाम की स्थिति बन रही है.

- परवेज बशीर, एआरएम