RANCHI: रांची यूनिवर्सिटी के कॉमर्स एंड बिजनेस मैनेजमेंट के स्टूडेंट्स परेशान हैं. उनकी परेशानी यह है कि इंटरनल एग्जाम में कम मा‌र्क्स मिले हैं. स्टूडेंटस का आरोप है कि डिपार्टमेंट के पूर्व एचओडी डॉ बीएम साहू ने अपने चहेतों को तो इंटरनल एग्जाम में अच्छे मा‌र्क्स दिए, पर जो रेगुलर थे उन्हें कम मा‌र्क्स दिए. हालांकि डॉ बीएम साहू ने इन आरोपों का खंडन किया है. उन्होंने कहा है कि उनपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं. डिपार्टमेंट के छात्र और पीजी छात्र मोर्चा के प्रभारी कुंदन कुमार ने बताया कि इंटरनल एग्जाम की क्रॉसलिस्ट सोमवार को जारी की गई. इसमें एग्जाम में शामिल हुए लगभग तीन सौ स्टूडेंटस में तकरीबन डेढ़ सौ को कम मा‌र्क्स मिले हैं. वहीं डॉ बीएम साहू के जो दस बारह चहेते स्टूडेंट थे, उन्हें कम अटेंडेंस के बावजूद बेहतर मा‌र्क्स दिए गए. डिपार्टमेंट की छात्रा प्रियंका कश्यप ने भी बताया कि इंटरनल एग्जाम में जो मा‌र्क्स मिले हैं, उनका रिचेक होना चाहिए. वहीं, सुधा कुमारी ने बताया कि इंटरनल का मा‌र्क्स देने में गड़बड़ी की गई है.

फ्0 में क्8 मा‌र्क्स ही कैसे मिलेंगे

छात्रा प्रियंका कुमारी ने बताया कि इंटरनल में फ्0 मा‌र्क्स होते हैं. ऐसे में क्8 से क्9 मा‌र्क्स ही स्टूडेंटस को कैसे मिले. जो स्टूडेंट रेग्यूलर हैं उन्हें भी अटेंडेंस के मा‌र्क्स नहीं मिले हैं. इससे साफ लगता है कि मा‌र्क्स देने में भेदभाव हुआ है.

वर्जन

छात्रों ने जो आरोप लगाया है वह बेबुनियाद है. मा‌र्क्स देने में एचओडी की भूमिका नहीं होती. ब्0 परसेंट से ज्यादा स्टूडेंटस क्लास में नहीं आते. ऐसे स्टूडेंटस नेतागिरी करते हैं.

-डॉ बीएम साहू, एक्स एचओडी, कॉमर्स एंड बिजनेस मैनेजमेंट, आरयू

------------

क्या कहते हैं स्टूडेंट्स

इंटरनल का मा‌र्क्स रिचेक होना चाहिए. कई स्टूडेंटस को फ्0 में से क्8 और क्9 मा‌र्क्स ही मिले हैं. जो स्टूडेंट रेगुलर हैं उन्हें भी इंटरनल में कम मा‌र्क्स मिले हैं.

प्रियंका कश्यप

-----------

इंटरनल के मा‌र्क्स में गड़बड़ी की गई है. इंटरनल में स्टूडेंट को ख्भ् से ख्म् मा‌र्क्स तक मिलना चाहिए.

सुधा कुमारी

-----------------

इंटरनल के जो मा‌र्क्स मिले हैं, उसमें प्रोजेक्ट का मा‌र्क्स स्टूडेंट को नहीं दिया गया है. इसलिए हमें कम मा‌र्क्स आए हैं.

प्रियंका कुमारी

-----------

हमें इंटरनल में कम मा‌र्क्स दिए गए हैं. अगर इसमें सुधार नहीं हुआ तो हम आंदोलन करेंगे. इस मामले को वीसी तक लेकर जाएंगे.

कुंदन कुमार, अध्यक्ष झारखंड छात्र मोर्चा