जानें PF अकाउंट के सरकारी कर्मचारियों वाले फायदे ...

By: Shweta Mishra | Publish Date: Thu 02-Nov-2017 04:53:37   |  Modified Date: Thu 02-Nov-2017 04:53:41
A- A+
जानें PF अकाउंट के सरकारी कर्मचारियों वाले फायदे ...
अक्‍सर लोग यह कहते हैं म‍िल जाते हैं क‍ि सरकारी नौकरी नहीं होने से उन्‍हें बुढ़ापे में पेंशन का भी सहारा नहीं है। ऐसा सोचने वाले लोगों को इसके ल‍िए ज्‍यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। सरकारी नौकरी हो या न हो उन्‍हें भी सरकारी कर्मचार‍ियों जैसे कई बड़े फायदे म‍िल सकते हैं। हालांक‍ि इसके ल‍िए ईपीएफ यानी कि‍ एम्पलॉईज प्रोविडेंट फंड की सर्वि‍स के तहत होना जरूरी है...

सरकार भी अपना ह‍िस्‍सा म‍िलाती
जी हां ज‍िन लोगों का ईपीएफ के तहत बेस‍िक सैलरी सैलेरी का 12 फीसदी हर महीने कट रहा है। वे सरकारी कर्मचारियों की तरह फायदे पा सकते हैं। ईपीएफ में कर्मचारी की सैलरी का 12 फीसदी हर माह कटता है। वहीं इसमें कंपनी यानी क‍ि इंप्‍लॉयर भी इसमें 12 फीसदी जमा करती है, ज‍िसमें कंपनी के कंट्रीब्‍यूशन से 8.33 प्रतिशत ईपीएस यानी क‍ि पेंशन खाते में जाता है। पेशन खाते में सरकार भी अपना ह‍िस्‍सा म‍िलाती है।

Pf, epf, Provident Fund, Provident Fund withdrawal, Provident Fund Rules, EPFO, EPFO Balance, Pf government employee, Pf service like government, EPF pension

सरकारी कर्मचारियों वाले फायदे
ऐसे में सभी कर्मचारी 10 साल की नौकरी पूरी होने के बाद पेंशन का हकदार हो जाते हैं लेक‍िन यह पेंशन र‍िटायरमेंट के बाद ही म‍िलती है। वहीं अगर ईपीएफ होल्‍डर की मौत हो जाती है तो यह पेंशन उसकी पत्‍नी को म‍िलती है। इसके अलावा ईपीएफ होल्‍डर भी सरकारी कर्मचार‍ियों की तरह घर खरीदने, बच्‍चों की श‍िक्षा, शादी के अलवा खुद की बीमारी में या फ‍िर पर‍िजानों की बीमारी के ल‍िए खाते से कुछ शर्तों के तहत पैसे न‍िकाल सकते हैं।

Pf, epf, Provident Fund, Provident Fund withdrawal, Provident Fund Rules, EPFO, EPFO Balance, Pf government employee, Pf service like government, EPF pension

पेंशन और इन्श्योरेंस की सुविधा
बतादें क‍ि अभी देश भर में 1 करोड़ से अधिक कंपनियां और फर्म काम कर रही हैं, लेकिन केवल 10 लाख कंपनियां ही ईपीएफओ से रजिस्टर्ड हैं। केंद्र सरकार देश भर के 40 करोड़ श्रमिकों को भी जल्द ही पीएफ-पेंशन और इन्श्योरेंस की सुविधा देने जा रही है। सरकार का मकसद इस इससे मजदूर वर्ग को भी ईपीएफ स्कीम और सामाजिक सुरक्षा के दायरे में लाना है। जिससे कि उनका भविष्‍य काफी हद तक सुरक्षित हो सके।

Business News inextlive from Business News Desk