एड रोकने का विकल्प
एड ब्लॉकर ब्राउजर में किसी वेबसाइट पर पॉप अप की तरह आने वाले विज्ञापनों को रोकने का विकल्प देता है। इस तरह के विज्ञापन अमूमन गूगल प्रायोजित होते हैं। विज्ञापन से होने वाली कमाई को देखते हुए कंपनी एड ब्लॉकर लाने से बचती रही है। हाल ही में कंपनी को यूट्यूब में गलत वक्त पर विज्ञापन दिखाने के कारण आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा।

क्यों हुआ ये मामला?
आतंकी संगठनों द्वारा डाले गए वीडियो के बाद भी कई विज्ञापन दिखाए गए। इससे खफा होकर कई बड़े ब्रांड ने यूट्यूब से अपने विज्ञापन हटा लिए और यूट्यूब का बहिष्कार कर दिया। इस बहिष्कार से गूगल को करीब 75 करोड़ डॉलर (करीब 4,800 करोड़ रुपए) के नुकसान का अनुमान है। इस विरोध के बाद गूगल ने इस दिशा में कदम उठाने का भरोसा दिलाया था।

गूगल क्रोम पर आएगा एड ब्लॉकर
इसी दिशा में कदम
माना जा रहा है कि क्रोम में एड ब्लॉकर का विकल्प देना भी इसी दिशा में उठाया गया कदम है। इस प्रक्रिया के बारे में कंपनी ने अब तक विस्तार से जानकारी नहीं दी है। कंपनी का कहना है कि अभी इस संबंध में बातचीत चल रही है। इंटरनेट ब्राउजिंग के क्षेत्र में गूगल क्रोम करीब 60 परसेंट की हिस्सेदारी के साथ नंबर एक पर है।

ट्विटर पर 24/7 न्यूज स्ट्रीमिंग
इस बीच, अपने यूजर्स को न्यूज से अपडेट रखने के लिए ट्विटर ने ब्लूमबर्ग से हाथ मिलाया है। इसके तहत ब्लूमबर्ग ट्विटर पर न्यूज स्ट्रीमिंग के लिए अलग से प्रोडक्शन करेगा और यह पूरी दुनिया के ट्विटर यूजर्स के लिए 24/7 अवेलेबल रहेगी। हालांकि, इस ज्वाइंट वेंचर के नाम के बारे में अभी घोषणा नहीं की गई है मगर माना जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों में इसकी आधिकारिक घोषणा हो सकती है और इनीशियल स्टेज पर इसकी टेस्टिंग शुरू हो चुकी है।

Technology News inextlive from Technology News Desk

Technology News inextlive from Technology News Desk