JAMSHEDPUR (10 Jan, JNN) : सरायकेला में अलग-अलग दो सड़क दुर्घटना में स्कूल से घर जा रही छात्र तथा ससुराल से घर आ रहे युवक की मौत हो गई. सड़क दुर्घटना में छात्रा की मौत पर आक्रोशित ग्रामीणों ने मुआवजा की मांग को लेकर चार घंटे तक सड़क जाम किया. मंगलवार की देर रात सरायकेला-कांड्रा रोड पर दुगनी कोलढीपी के पास बाइक पर ससुराल से घर आ रहे चंद्रपुर के बुद्धेश्वर कालंदी की किसी अज्ञात वाहन के चपेट में आने से मौत हो गई. 24 वर्षीय बुद्धेश्वर कालंदी मंगलवार को बाइक से अपना ससुराल बाघराईदीह गया था. रात को वे बाइक से घर वापस आ रहा था. इस बीच कोलढीपी के पास किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मारी. इसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया. उसके सर पर गहरी चोटें आई भी. सूचना पाकर सरायकेला पुलिस घटनास्थल पर पहुंची. बुद्धेश्वर ने पुलिस को अपना नाम व पता बताया. पुलिस ने उसे उपचार के लिए सदर अस्पताल लाया जहां पहुंचते ही उसकी मौत हो गई. सूचना पाकर उसके परिजन सरायकेला पहुंचे. बुधवार को पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया.

पुलिस को करनी पड़ी मशक्कत

बुधवार को सरायकेला-चाईबासा रोड पर हेंसाहुड़ी में तेज रफ्तार से आ रही वाहन की चपेट में आने से स्कूल जा रही एनआर प्लस टू की छात्रा की मौत हो गई. घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने सरायकेला-चाईबासा मार्ग चार घंटे जाम कर दिया. जाम हटाने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी और चार घंटों के बाद जाम हटा. सरायकेला थानांतर्गत पाठानमारा पंचायत के कोपे की 18 वर्षीया छात्रा प्रियंका गोडसरा नृपराज राजकीय प्लस टू उच्च विद्यालय में 12वीं कक्षा की छात्रा थी. बुधवार को सुबह दस बजे के लगभग प्रियंका साइकिल से स्कूल जा रही थी. इस बीच हेंसाहुड़ी पति चौक के पास सामने से तेज रफ्तार से आ रहा ट्रेलर (ओडी 14 जी 8064) ने साइकिल समेत छात्रा को कुचल दिया जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई. 12 घंटे के अंदर दो-दो मौत हो जाने पर स्थानीय लोग आक्रोशित हो गए और लोगों ने सड़क दुघर्टनाओं पर नियंत्रण करने तथा मृतका छात्रा के परिजनों को दस लाख रुपये मुआवजा की मांग करते हुए सरायकेला-चाईबासा मार्ग को जाम कर दिया.

मौके पर पहुंचे अधिकारी

सड़क जाम की सूचना पाकर अनुमंडल पदाधिकारी संदीप कुमार दूबे व सीओ शुभ्रा रानी एवं पुलिस बल के साथ थाना प्रभारी घटनास्थल पर पहुंचे. एसडीओ ने लोगों को आश्वासन दिया कि छह दिनों के अंदर ब्रेकर बन जाएगा और भारी वाहनों का परिचालन के लिए वे वरीय पदाधिकारी से बात करेंगे. उन्होंने मृतक के परिजनों को तत्काल बीस हजार रुपये का भुगतान करने एवं ट्रेलर ड्राइवर के खिलाफ मामला दर्ज कर उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया. प्रशासनिक पदाधिकारियों के काफी समझाने के बाद लोगों ने सड़क से जाम हटाया. उधर, पुलिस ने ट्रेलर को जप्त कर लिया है, जबकि ड्राइवर भागने में सफल रहा.