Wimbledon 2017: जिसे खुद फेडरर ने मजाक समझा, वही कर दिखाया

By: Inextlive | Publish Date: Mon 17-Jul-2017 09:48:06
A- A+
Wimbledon 2017: जिसे खुद फेडरर ने मजाक समझा, वही कर दिखाया
आठवीं बार विंबलडन जीतने के बाद बोले रोजर, कोई कहता कि मैं 2017 में दो ग्रैंडस्लैम जीतूंगा तो इस बात पर हंस देता। रोजर फेडरर के नाम पर हैं रिकॉर्ड 19 ग्रैंडस्लैम खिताब, सैम्प्रास का रिकॉर्ड तोड़कर जीता 8वीं विंबलडन ट्रॉफी।

रोजर फेडरर ने स्वीकार किया है कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वह आठ बार विंबलडन खिताब जीतेंगे और अगर उनसे कोई कहता कि 2017 में वह दो ग्रैंडस्लैम जीतेंगे तो वह इस पर ठहाका लगाते। तीन हफ्ते बाद 36 बरस के होने जा रहे फेडरर ने पीट सम्प्रास का रिकॉर्ड तोड़कर आठवां विंबलडन खिताब जीता। उन्होंने फाइनल में मारिन सिलिक को 6-3, 6-1, 6-4 से मात दी। सोलह साल पहले फेडरर ने सम्प्रास को हराकर पहली बार विंबलडन जीता था। अब 19 ग्रैंडस्लैम फेडरर के नाम हैं, जबकि राफेल नडाल उनसे चार खिताब पीछे हैं।

 

नहीं था यकीन
स्विट्जरलैंड के चैंपियन खिलाड़ी फेडरर ने कहा, 'पीट को हराने के बाद मैने कभी सोचा भी नहीं था कि मैं इतना कामयाब होऊंगा। मुझे लगा था कि कभी विंबलडन फाइनल तक पहुंचूंगा और जीतने का कोई मौका मिलेगा। कभी सेाचा नहीं था कि आठ खिताब अपने नाम करूंगा। इसके लिए या तो आप अपार प्रतिभाशाली हों या माता-पिता और कोच तीन बरस की उम्र से आपको कोर्ट पर तैयार करने में लग जाएं। मैं उन बच्चों में से नहीं था।’ उन्होंने कहा, 'मुझे पता था कि मैं एक बार फिर खिताब जीतूंगा लेकिन इस लेवल पर कभी नहीं सोचा था। अगर मुझसे कोई कहता कि मैं इस साल दो ग्रैंडस्लैम जीतूंगा तो मैं हंस देता।

 

सिर्फ 3 बार हारे
स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने रविवार को क्रोएशिया के मारिन सिलिक को आसानी से हराते हुए साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम, विंबलडन का खिताब आठवीं बार जीता। इस साल आस्ट्रेलियन ओपेन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए फिर चैंपियन बने। वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे, लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे। इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे।

 

अगले साल डिफेंड करेंगे टाइटल
अपने रिटायरमेंट पर चल रहे कयासों को विराम देते हुए फेडरर ने कहा कि वो 2018 में भी इस खिताब को डिफेंड करने का इरादा रखते हैं। हालांकि वो ये जानते हैं कि उनके कई फैंस को इस बात का डर है कि सेंटर कोर्ट पर यह उनकी आखिरी स्पीच हो सकती है। उन्होंने कहा, 'हम नहीं पता होता कि भविष्य में क्या होगा। मुझे उम्मीद है कि मैं वापस आऊंगा। मुझे उम्मीद है कि ये मेरा आखिरी मैच नहीं है।Ó बाद में उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में भी इस पर क्लेयरीफिकेशन दिया और कहा, समय ही बताएगा कि मैं अगले साल क्या करूंगा। आप मुझे, मेरे शेड्यूल, फिटनेस शेड्यूल और टूर्नामेंट्स को जानते हो, जिनमें मैं पार्टिसिपेट करता रहा हूं। ऐसे में मैं खुद को अगले साल भी यहां खेलते हुए देखता हूं। हालांकि उम्र इसकी गारंटी नहीं है, लेकिन लक्ष्य अगले साल यहां अपने खिताब को डिफेंड करना है।

इन क्रिकेटरों ने बनाए ऐसे रिकॉर्ड, जितनी बार देखेंगे उतना ही शरमाएंगे

फेडरर और अचीवमेंट्स
-विंबलडन में मिली इस जीत ने फेडरर के करियर ट्रॉफी कलेक्शन की संख्या को 93 तक पहुंचा दिया है।

-यही नहीं, बिना कोई सेट गंवाए खिताब जीतकर वो 1976 में ब्योन बोर्ग के बाद पहले टेनिस खिलाड़ी भी बन गए हैं।

-ओपेन एरा में खिताब जीतने वाले फेडरर सबसे उम्रदराज चैंपियन भी बनने में सफल रहे।

-फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए फिर चैंपियन बने।

Sports News inextlive from Sports News Desk