वाशिंगटन/ब्रसेल्‍स/दमिश्‍क (एएफपी)। सीरिया में बसर अल असद शासन के कथित रासायनिक हमलों के खिलाफ अमरीकी सैन्‍य कार्रवाई के बाद रूस ने कहा है कि इसके गंभीर परिणाम होंगे। रूस वर्तमान सीरियाई राष्‍ट्रपति के शासन का पक्षधर है।

परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें  
अमरीका में रूस के राजदूत अंतोली एंटोनोव ने अपने बयान में कहा है कि हमें फ‍रि से धमकाया जा रहा है। हम पहले ही चेता चुके हैं कि ऐसी किसी भी कार्रवाई के गंभीर परिणाम होंगे। जिसकी सारी जिम्‍मेदारी वाशिंगटन, लंदन व पेरिस की होगी। राजदूत ने आगे अपने बयान में जोड़ा कि रूस के राष्‍ट्रपति का अपमान बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा। गौरतलब है कि अमरीकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने असद शासन का समर्थन करने के लिए रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमिर पुतिन का नाम लिया था।

नाटो ने किया हमले का समर्थन
नाटो प्रमुख ने सीरिया पर पश्‍च‍िमी देशों के हमले का समर्थन किया है। ब्रसेल्‍स में जारी अपने बयान में जेंस स्‍टोलटेनबर्ग ने कहा कि वह अमरीका, युनाइटेड किंगडम व फ्रांस की कार्रवाई का समर्थन करते हैं। यह असद शासन की सीरियाई नागरिकों को रासायनिक हथियारों का शिकार बनाने की क्षमता को नष्‍ट करने में कारगर होगा।

सीरिया ने बताया अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों का उल्‍लंघन
वहीं सीरियाई स्‍टेट मीडिया ने हमलों की निंदा करते हुए उन्‍हें अंतरराष्‍ट्रीय कानूनों का खुला उल्‍लंघन व असफल बताया है। एएफपी के संवाददाता के मुताबिक स्‍थानीय समयानुसार सुबह 4 बजे दमिश्‍क में धमाकों व लड़ाकू विमानों की आवाज सुनाई दी। जिसके बाद राजधानी के उत्‍तरी व पूर्वी छोरों पर धुआं उठता देखा गया।

International News inextlive from World News Desk