रेयान स्‍कूल मर्डर : इस एक्‍ट्रेस ने पैरेंट्स को खत लिखकर चेताया, पढ़ लें ताकि आपका बच्‍चा रहे सुरक्षित

By: Inextlive | Publish Date: Mon 11-Sep-2017 11:28:11
A- A+
रेयान स्‍कूल मर्डर : इस एक्‍ट्रेस ने पैरेंट्स को खत लिखकर चेताया, पढ़ लें ताकि आपका बच्‍चा रहे सुरक्षित
गुरुग्राम के रेयान स्‍कूल में एक बच्‍चे के मर्डर की घटना ने सभी को हैरान कर दिया। स्‍कूल जिसे हम शिक्षा का मंदिर कहते हैं वहां आपका बच्‍चा सुरक्षित है या नहीं। अभिभावकों को अब इसकी चिंता सताने लगी है। आम आदमी हो या खास सभी ने इस घटना की कड़ी निंदा की है। बॉलीवुड एक्‍ट्रेस रेणुका सहाणे ने तो फेसबुक पर एक पोस्‍ट लिखा जिसे हर मां-बाप को जरूर पढ़ना चाहिए...

स्‍कूल में आपका बच्‍चा कितना सुरक्षित
मशहूर बॉलीवुड एक्‍ट्रेस रेणुका सहाणे ने रेयान स्‍कूल में सात साल के बच्‍चे की हत्‍या को काफी घिनौना कहा है। रेणुका ने इसका गुस्‍सा अपने फेसबुक पर निकाला। उन्‍होंने सोशल मीडिया पर एक लंबा खत लिखा जिसमें उन्‍होंने स्‍कूल की सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े किए। वहीं अभिभावकों को भी सतर्क रहने की सलाह दी है। आइए आप भी पढ़ें...

रेणुका लिखती हैं कि, 'गुरुग्राम के स्‍कूल में बच्‍चे का मर्डर और राजधानी दिल्‍ली में बच्‍ची के साथ रेप की घटना ने पूरे देश को चिंता में डाल दिया है। मां-बाप अपने बच्‍चों को स्‍कूल इसलिए भेजते हैं ताकि उन्‍हें अच्‍छी शिक्षा मिल सके। लेकिन वहां आपको बच्‍चा कितना सुरक्षित है, अब यह सवाल खड़ा होता है। बड़े-बड़े स्‍कूल आपसे फीस के रूप में मोटी रकम तो वसूल लेते हैं लेकिन सुरक्षा न के बराबर है। रेयान स्‍कूल की घटना ने कई सवाल खड़े किए हैं...


1. स्‍कूल के बस ड्राइवर या कंडक्‍टर को बच्‍चों का वॉशरूम इस्‍तेमाल करने की इजाजत किसने दी?
2. आरोपी स्‍कूल के वॉशरूम के अंदर चाकू लेकर पहुंच गया, किसी ने उसकी तलाशी क्‍यों नहीं ली?
3. स्‍कूल में बच्‍चों की देखभाल की जिम्‍मेदारी फीमेल अटेंडेट के पास होती है, जिस वक्‍त यह घटना हुई वह वहां पर क्‍यों नहीं थी।?
4. जब आरोपी ने बच्‍चे पर हमला किया तो उसके चिल्‍लाने की आवाज किसी ने क्‍यों नहीं सुनी?
5. स्‍कूल प्रशासन पूरे मामले को दबाने की कोशिश क्‍यों कर रहा है?
6. स्‍कूल के अंदर एक बच्‍चे का मर्डर हो जाता है, यह कैसी सुरक्षा है?

पैरेंट्स को करनी चाहिए ये मांग
रेणुका ने रेयान मर्डर केस को संदिग्‍ध तो माना ही है, साथ ही उन्‍होंने पैरेंट्स को भी हिदायद दी है कि उन्‍हें अब जागरुक होना होगा। बच्‍चे की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी आपको ही करनी है। हमें सरकार से मांग करनी चाहिए कि स्‍कूल प्रशासन से जुड़ा कोई भी व्‍यक्‍ित चाहे वह प्रिंसिपल हो, टीचर हो, ट्रस्‍टी हो, बस ड्राइवर, कंडक्‍टर, चपरासी या कोई भी व्‍यक्‍ित से स्‍कूल से जुड़ा है, अगर उसके खिलाफ पास्‍ट में कोई आपराधिक मामला दर्ज है तो उन्‍हें एक ब्‍लैक लिस्‍ट में डाल देना चाहिए। यह लिस्‍ट देश के हर स्‍कूल (सरकारी और प्राइवेट) को जारी करनी चाहिए। ताकि अभिभावक एडमिशन करवाने जाएं तो उन्‍हें पता होना चाहिए कि कौन सा स्‍कूल उनके बच्‍चे के लिए सही है।

National News inextlive from India News Desk