आगरा में स्टूडेंट्स लूट रहे थे पर्स और मोबाइल

By: Inextlive | Publish Date: Sat 06-Jan-2018 07:01:18
A- A+
आगरा में स्टूडेंट्स लूट रहे थे पर्स और मोबाइल

- पुलिस ने पकड़ा छह सदस्यीय गैंग

- जवाहर पुल के नीचे बना रहा था ठिकाना

आगरा। शहर में लूट की वारदात को स्टूडेंट्स अंजाम दे रहे थे। थाना हरीपर्वत पुलिस ने ऐसे ही छह सदस्यीय गैंग को बंदी बनाया है। इसमें तीन स्टूडेंट्स हैं। पकड़े गए लुटेरों में एक के पिता बैंक में डिप्टी मैनेजर व दूसरे के पिता निगमकर्मी हैं। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से मिले सुराग से गैंग को पकड़ा। शुक्रवार को थाना हरीपर्वत में एसपी सिटी कुंवर अनुपम सिंह ने खुलासा करते हुए बताया कि

गैंग ने 24 वारदातों को कबूला है.

लुटेरे का पिता है डिप्टी मैनेजर

पुलिस के मुताबिक चाहत गैंग का लीडर है। वह थाना न्यू आगरा से जानलेवा हमले के मामले में जेल जा चुका है। अमन प्रकाश के पिता संजय प्लेस में एक बैंक में डिप्टी मैनेजर हैं। अमन ने कमला नगर स्थित एक कॉलेज से इंटर किया है। अमन प्रकाश व हर्ष गुप्ता बाइक चोरी के मामले में थाना एत्माद्उद्दौला से जेल गए हैं। गुड्डू देवरी रोड स्थित इंस्टीट्यूट में बीएससी प्रथम वर्ष का स्टूडेंट है। हर्ष गुप्ता ट्रांस यमुना कॉलोनी में एक कॉलेज से इंटर कर रहा है। उसके पिता नगर निगम में संविदाकर्मी हैं। अमन कुशवाह चांदी की पायल का काम करता है.

जेल में तैयार किया गैंग

पुलिस के अनुसार अमन प्रकाश, हर्ष गुप्ता बाइक चोरी में जेल गए थे। चाहत भी न्यू आगरा से जेल गया। जेल में तीनों की मुलाकात हुई। वहीं से इन्होंने गैंग बनाया। बाहर निकलने के बाद लूट की योजना तैयार कर ली। मोबाइल लूटने के बाद मोबाइल गुड्डू को दिए जाते थे। वह मोबाइल को राहगीर व कुछ जानकारों को बेच देता था। शातिरों ने पुलिस को बताया वह चोरी की बाइक से वारदात को अंजाम देते थे। घटना के बाद बाइक का नंबर प्लेट बदल देते थे.

पुल के नीचे बना रखी थी शरण स्थली

गैंग ने पुलिस से छिपने के लिए जवाहर पुल के नीचे चैंबर में बना रखा था। छिनैती की वारदात के बाद गैंग चैंबर में जाकर आराम से बैठ जाता था। पुलिस सिटी के मुख्य बैरियरों को सघन चेकिंग अभियान करती रह जाती है। शातिर चैंबर में आकर शराब पीते थे। रातभर यहां बिता कर सुबह फिर से निकल जाते थे.

इन वारदातों को दिया अंजाम

पुलिस के मुताबिक दो जनवरी को विजय नगर में एक महिला का पर्स लूटा गया। इसी दिन शाम को चार बजे एक्टिवा सवार दो युवतियों से पर्स लूटा गया। 30 दिसम्बर को पालीवाल पार्क से एक पर्स लूटा। 16 दिसम्बर को शिवा फोटो स्टेट के सामने महिला का पर्स लूटा। 18 दिसम्बर को डॉ। धीर क्लीनिक वाले रोड पर महिला का पर्स लूटा। भागते समय एक्सीडेंट होने पर तमंचा दिखाकर एक आदमी की एक्टिवा लूट ली। अपनी बाइक छोड़ गए। इस दौरान अमन प्रकाश, राहुल मिश्रा और चाहत बाइक चला रहे थे.

और भी की है लूट की वारदातें

पुलिस के मुताबिक एक महीने पहले खंदारी पुल पर रिक्शे से जा महिलाओं का पर्स लूट लिया था। भगवान टॉकीज पर ऑटो सवार महिलाओं का पर्स लूटा जिसमें लैपटॉप व दो हजार रुपये थे। नगला बूढ़ी से महिला का पर्स लूटा जिसमें तीन हजार रुपये थे। फिर एक महिला को निशाना बनाया उसके पर्स में चार हजार रुपये व सोने के टॉप्स थे। पुलिस के अनुसार लुटेरों ने कुल 24 वारदातों का इकबाल किया है, जो उन्हें याद है। इसके अलावा वारदातों की लम्बी लिस्ट है जो उन्हें याद भी नहीं.

खुलासा करने वाली पुलिस टीम

शातिर गैंग को पकड़ने वाली टीम में एएसपी श्लोक कुमार, एएसपी रवीना त्यागी, थानाध्यक्ष हरीपर्वत महेश चंद्र गौतम, एसआई अश्वनी कुमार, चेतन भारद्वाज, कृपाल सिंह, दिनेश कुमार, दूलीचंद यादव, सिपाही कौशल कुमार, उपेंद्र कुमार, विवेक कुमार, संदीप कुमार, सुरेश कुमार, नितिन त्यागी आदि शामिल हैं.

दबोचे गए लुटेरे

अली खान उर्फ चाहत पुत्र राहत खान निवासी अबुलउल्लाह दरगाह

अमन प्रकाश निवासी ट्रांस यमुना कॉलोनी, एत्माद्उद्दौला

राहुल मिश्रा पुत्र अशोक मिश्रा निवासी ब्रजदीप कॉलोनी, सिकंदरा

हर्ष गुप्ता उर्फ भोला पुत्र सुशील कांत गुप्ता निवासी ट्रांस यमुना कॉलोनी

अमन कुशवाह पुत्र राजू कुशवाह निवासी नगला पदी, न्यू आगरा

गुड्डू फौजदार पुत्र दलीप सिंह निवासी नगला पदी, न्यू आगरा

ये सामान किया बरामद

आठ मोबाइल

दो घड़ी

पांच पैन कार्ड

एक आधार कार्ड

4500 रुपये

दो बाइक

inextlive from Agra News Desk