सूरज या पॉवर हाउस की जरूरत नहीं, अब यह 'बैक्‍टीरिया' ही रात दिन बनायेगा बिजली!

By: Chandra Mohan Mishra | Publish Date: Wed 29-Nov-2017 07:09:42   |  Modified Date: Tue 28-Nov-2017 10:23:38
A- A+
सूरज या पॉवर हाउस की जरूरत नहीं, अब यह 'बैक्‍टीरिया' ही रात दिन बनायेगा बिजली!
कहते हैं ना कि विज्ञान के लिए शायद कुछ भी नामुमकिन नहीं है। साइंस की इस नई रिसर्च में कुछ ऐसी ही बात सामने आई है। वैज्ञानिकों ने एक ऐसे बैक्‍टेरिया जिसे साइनोबैक्टीरिया या हिंदी में हरा शैवाल कहते हैं, खोजा है जो सूरज की रोशनी से लेकर रात के अंधेरे में भी एक इलेक्‍ट्रिक करंट पैदा करता है।

इंपीरियल कॉलेज लंदन में खोजी गई बिजली बनाने की अनोखी तकनीक
वैज्ञानिकों के मुताबिक सोलर एनर्जी के लिए ऐसे सोलर सेल्स यूज़ होते हैं जो केवल धूप की रोशनी में ही काम करते हैं। ईंधन की बढ़ती कीमतों और बिजली की बढ़ती जरूरतों से जुड़ी समस्याओं के बीच लंदन के इंपीरियल कॉलेज के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी खुशखबरी दी है जो आने वाले सालों में पूरी दुनिया के लिए एक वरदान साबित हो सकती है। इंपीरियल कॉलेज के वैज्ञानिकों ने साइनोबैक्टीरीया यानी नील हरित शैवाल का यूज करके एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक सर्किट तैयार किया है जो रोशनी को बिजली में बदल सकता है।

 

कैसे किया ये कमाल
इस प्रयोग के दौरान वैज्ञानिकों में एक नॉर्मल इंकजेट प्रिंटर से उन्होंने ऐसा कार्बन नैनोट्यूब इलेक्ट्रोड सरफेस प्रिंट किया है जिसके ऊपर सायनोबैक्टीरिया मौजूद है। वैज्ञानिकों का कहना है कि कोयले को जलाकर या हाइड्रो इलेक्ट्रिक सिस्टम से पावर जनरेट करने की महंगी तकनीकों के अलावा दुनिया में सबसे सस्ता इलेक्ट्रिक जनरेटर सोलर बेस्‍ड ही है, लेकिन वो रात में बिजली नहीं बना सकता। सोलर एनर्जी में इस्तेमाल होने वाले सोलर सेल सिर्फ धूप की रोशनी में ही एक्सपोज होते और काम करते हैं। दूसरी ओर साइनोबैक्टीरिया दिन के उजाले के साथ साथ रात के अंधेरे में भी बिजली बना सकता है।

science news, fuel, bacteria, electric generation with bacteria, day or night, electric generation in day or night, solar energy, solar power, cyanobacteria, solar cells, biophotovoltaic device, disposable solar panel, Imperial College London, international news, algae plant, नील हरित शैवाल

 

स्मार्टफोन जल्द बनेगा आपका सच्चा दोस्त क्योंकि वो आपकी महक सूंघकर ही अनलॉक हो जाएगा!

 

साइनोबैक्टीरिया वाले सोलर पैनल और बैट्री से बन सकती है कंपोस्‍ट खाद
साइनोबैक्टीरिया से बने किसी भी इलेक्ट्रिक जनरेटर डिवाइस की एक और बहुत ही बड़ी खासियत यह है, कि ये सभी डिवाइस बायोडिग्रेडेबल होंगी। नेचर कम्युनिकेशन मैगजीन में छपे इसके रिसर्च पेपर में मुख्‍य वैज्ञानिक और राइटर Marin Sawa बताते हैं कि साइनोबैक्टीरिया इलेक्ट्रिक सर्किट और उससे बनी बैट्री की लाइफ पूरी होने के बाद उन्हें बगीचों में या कंपोस्ट में भी डिकंपोज यानि गलाया जा सकता है।

 

बिना सिमकार्ड और GPS के भी आपका एंड्राएड फोन हर वक्‍त ट्रैक करता है आपकी लोकेशन


सस्‍ती और इनवायरमेंट के लिए फायदेमंद तकनीक
साइनोबैक्टीरिया इलेक्ट्रिक सर्किट से बने सोलर पैनल और बायोडिग्रेडेबल बैटरी बहुत ही सस्ती, आसानी से उपलब्ध और एनवायरनमेंट के लिए फायदेमंद होगी क्योंकि इन में कोई भी हैवी मेटल और प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं होगा और यही समय की जरूरत है। लेकिन Marin Sawa का कहना है कि अभी इस टेक्‍नोलॉजी को ऐसे ही इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है हमें इस पर अभी बहुत काम करना होगा तब हम इसे आम लोगों के इस्‍तेमाल लायक बना पाएंगे।

 

8 जीबी रैम वाले ये 5 स्‍मार्टफोन तो कंप्‍यूटर के भी बाप हैं

 

वैज्ञानिको ने दिखाया इस तकनीक का नायाब नमूना
इस नई रिसर्च के मुताबिक साइनोबैक्टीरिया इलेक्ट्रिक सर्किट से जुड़े 9 कनेक्टेड सेल्स मिलकर एक डिजिटल क्लॉक को चला सकते हैं या एक LED लाइट के फ्लैश को जला सकते हैं। यही नहीं वैज्ञानिकों ने यह साबित करके दिखाया है कि ये इलेक्ट्रिक सेल्स 100 घंटो तक के लिए भी लगातार पावर जनरेशन कर सकते हैं चाहे दिन हो या रात।

International News inextlive from World News Desk

खबरें फटाफट