- आरएलडीए में अभी तक टेलीफोनिक सुझाव ही पहुंचे

<- आरएलडीए में अभी तक टेलीफोनिक सुझाव ही पहुंचे

BAREILLY:

BAREILLY:

शाहदाना-इज्जतनगर रेलवे लाइन पर शहर के डेवलपर्स ने अभी तक टेलीफोनिक सुझाव ही रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (आरएलडीए) को दिया है. मेल से एक भी सुझाव आरएलडीए को नहीं मिला है. जबकि, सुझाव देने का आज आखिरी दिन हैं. 30 वर्ष से बंद चल रही इस मीटरगेज लाइन को रेजिडेंशियल इस्तेमाल के लिए आरएलडीए लगा हुआ है, लेकिन डेवलपर्स के विचार आरएलडीए के इस पक्ष में नहीं हैं. वह इस लाइन की जमीन को कॉमर्शियल या फिर बाजार मार्ग के रूप में लैंडयूज चेंज की बात कह रहे हैं.

मेल से दे सकते हैं सुझाव

शाहदाना-इज्जतनगर रेलवे स्टेशन की जमीन का इस्तेमाल कैसे हो इसके लिए डेवलपर्स <शाहदाना-इज्जतनगर रेलवे लाइन पर शहर के डेवलपर्स ने अभी तक टेलीफोनिक सुझाव ही रेल लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (आरएलडीए) को दिया है. मेल से एक भी सुझाव आरएलडीए को नहीं मिला है. जबकि, सुझाव देने का आज आखिरी दिन हैं. फ्0 वर्ष से बंद चल रही इस मीटरगेज लाइन को रेजिडेंशियल इस्तेमाल के लिए आरएलडीए लगा हुआ है, लेकिन डेवलपर्स के विचार आरएलडीए के इस पक्ष में नहीं हैं. वह इस लाइन की जमीन को कॉमर्शियल या फिर बाजार मार्ग के रूप में लैंडयूज चेंज की बात कह रहे हैं.

मेल से दे सकते हैं सुझाव

शाहदाना-इज्जतनगर रेलवे स्टेशन की जमीन का इस्तेमाल कैसे हो इसके लिए डेवलपर्स jgmreup1@rlda.railnet.gov.in jgmreup1@rlda.railnet.gov.in पर अपने सुझाव दे सकते हैं. क्ख् जनवरी सुझाव देने का आखिरी दिन हैं. भ् जनवरी डेवलपर्स और आरएलडीए के बीच हुई बैठक के बाद से क्क् जनवरी तक एक दर्जन से अधिक सुझाव आरएलडीए के पास पहुंचे हैं. जो कि टेलीफोनिक ही हैं. जिसमें डेवलपर्स ने टेंडर से जुड़ी जानकारी के साथ ही रोड बनाने के सुझाव आरएलडीए को दिए हैं. रीयल एस्टेट कारोबारी सुनील सिंह ने बताया कि उन्होंने भी रोड बनाने को लेकर सुझाव दिया है.

डेवलपर्स आरएलडीए से सहमत नहीं

पिछले दिनों आरएलडीए अधिकारियों ने एक बैठक क्रेडाई और डेवलपर्स के साथ हुई थी. जिसमें आरएलडीए ने जमीन के रेजिडेंशियल इस्तेमाल की बात कही थी. जिस पर डेवलपर्स ने आपत्ति जाहिर की थी. साथ ही खुद सड़क का निर्माण करने से मना कर दिया था. जिस पर आरएलडीए के मार्केटिंग मैनेजर दीपक गुप्ता और ज्वॉइंट जनरल मैनेजर प्रवेंद्र कुमार ने मेल के माध्यम से सुझाव मांग थे. जिसे रेल मंत्री और आरएलडीए के जीएम के सामने रखने की बात कही थी.

डेवलपर्स के सुझाव आ रहे हैं. सभी ने फोन पर ही सुझाव दिया है. मेल से अभी तक कोई सुझाव नहीं आए हैं. क्ख् जनवरी सुझाव देने का लास्ट दिन हैं.

प्रवेंद्र कुमार, ज्वॉइंट जनरल मैनेजर, आरएलडीए