अफ्रीका जाएगी भारतीय महिला टीम
भारत और साउथ अफ्रीका की महिला क्रिकेट टीमों के बीच फरवरी में 3 वनडे और 5 टी-20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी। सीरीज का आगाज 5 फरवरी को खेले जाने वाले पहले वनडे से होगा। इस दौरे के लिए भारतीय महिला टीम का चयन हो गया है। इस लिस्‍ट में एक नाम है, जिसकी चर्चा जोरों से है। सेलेक्‍शन कमेटी ने इस दौरे के लिए 18 साल की पूजा वस्‍त्राकर को टीम में शामिल किया है। पूजा सिर्फ अपने खेल नहीं बल्‍िक लड़कों वाले लुक को लेकर भी सुर्खियों में रहती हैं।

6 साल की उम्र में सीखा क्रिकेट
मध्‍य प्रदेश के शडहोल में रहने वाली पूजा ने 6 साल की उम्र में टीवी पर वीरेंद्र सहवाग को देखकर क्रिकेट खेलना शुरु कर दिया था। हालांकि वह बल्‍लेबाज तो नहीं लेकिन तेज गेंदबाज जरूर बन गईं। पूजा ने क्रिकेट मैदान पर काफी पसीना बहाया और आज परिणाम यह हुआ कि उनका भारतीय महिला क्रिकेट टीम में सेलेक्‍शन हो गया। पूजा ने हाल ही में इंदौर में आयोजित हुई चैलेंजर ट्रॉफी में अपनी तूफानी गेंदों से सभी को प्रभावित किया।
लड़कों जैसी दिखने वाली यह खिलाड़ी शामिल हुई भारतीय महिला टीम में
डरा हुआ था परिवार
पूजा ने बताया, 'हर बार टीम में चयन से ठीक पहले मैं चोटिल हो जाती थी, इसलिए इस बार मेरी बहनों से मन्नात मांगी थी। दो साल पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले मुझे कमर दर्द की समस्या हुई, फिर पिछले साल विश्व कप से पहले घुटने की सर्जरी हो गई। इस बार भी चैलेंजर ट्रॉफी में अंगूठे में चोट लगी तो पूरा परिवार घबरा गया। जैसे ही चयन की खबर लगी, सभी सीधे मंदिर पहुंचे। 5 बहन और 2 भाइयों के बीच पूजा सबसे छोटी हैं।

कभी लड़कियों के कपड़े नहीं पहने
पूजा बॉय कट हेयर स्टाइल और भारी आवाज के चलते लड़कों सी नजर आती हैं। चर्चा करने पर कहने लगीं, 'मैं शुरू से ऐसे ही रहती हूं। दीवाली पर पापा कपड़े दिलवाते थे तो भी कभी लड़कियों की ड्रेस नहीं खरीदी। मुझे उन कपड़ों में सहज नहीं लगता। जब मैं क्रिकेट खेलने लगी तो मैंने अपने बाल भी लड़कों जैसे कटा लिए।
लड़कों जैसी दिखने वाली यह खिलाड़ी शामिल हुई भारतीय महिला टीम में
लड़कों की टीम में अकेली लड़की
पूजा ने बताया मैं कॉलोनी में लड़कों के साथ खेलती थी। फिर हम स्टेडियम जाने लगे। यहीं शहडोल संभाग के प्रशिक्षकों की नजर पड़ी और उन्होंने मुझे खेलने का मौका दिया। संभाग के सचिव अजय द्विवेदी सर ने बहुत मदद की। शुरू में करीब दो साल तक अकादमी में मैं अकेली लड़की थी। मैं लड़कों की टीम से 'ए" ग्रेड मैच खेलती हूं। पूर्व क्रिकेटर चित्रा बाजपेयी ने भी शुरुआत में मेरी काफी मदद की।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk