जब रुक गईं थी एलेस्‍या के दिल की धड़कने
रुस में मॉस्‍को के रहने वाले रूस्‍लान और अना‍स्‍तासिया ओडोमेक के दो बच्‍चे हैं। रोदोमिर 5 साल का है और 3 साल की बेटी एलेस्‍या। नये साल के जश्‍न पर पूरा परिवार खुशियां मना रहा था। दोनो बच्‍चे खेल रहे थे पर तभी कुछ ऐसा हुआ कि पूरे घर में हड़कम्‍प मच गया। एलेस्‍या इनडोर पुल में गिर गई। उसके पिता ने उसे तुरंत पानी में से निकाला। पर तब तक मासूम एलेस्‍या के दिल की धड़कने रुक चुकी थीं। कुछ समझ नहीं आया तो उन्‍होंने चेस्‍ट पंप और माउथ-टू-माउथ ब्रीद‍िंग देना शुरु कर दिया। जब एलेस्‍या की मां आई तो बेटी को सीपीआर देते देख बेहोश हो गई। एलेस्‍या के दादा-दादी भी घर में थे। उन्‍होंने तुरंत एम्‍बुलेंस बुलाई। आधे घंटे तक पिता उसे सी.पी.आर. देते रहे।

पिता के प्‍यार ने फिर से किया एलेस्‍या को जिंदा
जब डॉक्‍टरों ने उसे देखा तो मृत घोषित कर दिया। एलेस्‍या के पिता ने हार नहीं मानी। वह बेटी की डेड बॉडी को सीपीआर देते रहे। डॉक्‍टरों ने कहा कि वो बेटी की डेड बॉडी को वे टॉर्चर कर रहे हैं। तभी कुछ ऐसा हुआ की डॉक्‍टर भी हैरान रह गये। एलेस्‍या का दिल फ‍िर से धड़कने लगा। 45 मिनट तक बिना ऑक्‍सीजन के कारण वो कोमा में चली गई। जब वह जागी तब उसका ब्रेन डैमेज हो गया। वह देख, हिल या बोल नहीं सकती थी। अपने पिता की तरह ही एलेस्‍या को भी नामुमकिन के बारे में नहीं पता था। उसने खुद को ठीक करने के लिए अपनी पूरी शक्ति लगा दी। कुछ ही सप्‍ताह में वह देखने और बोलने लगी। जीजीविषा यानी जीने की इच्‍छा से बड़ा कुछ भी नहीं होता है।

Weird News inextlive from Odd News Desk

Weird News inextlive from Odd News Desk