हार्वर्ड, कैंब्रिज, IIT, IIM में एडमिशन और हाई सैलरी नहीं, ये 10 बातें हैं इंटेलीजेंट लोगों की निशानी

By: Inextlive | Publish Date: Sat 20-May-2017 01:14:05   |  Modified Date: Sat 20-May-2017 01:31:52
A- A+
हार्वर्ड, कैंब्रिज, IIT, IIM में एडमिशन और हाई सैलरी नहीं, ये 10 बातें हैं इंटेलीजेंट लोगों की निशानी
अक्‍सर लोग कहते हैं जिनकी हाई सैलरी है या फिर जो हार्वर्ड, कैंब्रिज, IIT, IIM पढ़ते है, वे ही इंटेलीजेंट होते हैं। जब कि सही मायने में ऐसा नहीं है। एवरेज एकेडमिक रिकॉर्ड वाले गांधी जी, थर्ड क्‍लास क्‍लर्क की नौकरी करने वाले आइंस्टीन और स्‍कूल छोड़ने वाले बिल गेट्स इसके बड़े उदाहरण हैं। जिससे साफ है कि इंटेलीजेंट लोगों की पहचान कुछ सीक्रेट प्‍वांइट से होती हैं। हाल ही में क्‍योरा पर इससे जुड़े कुछ सवाल पूछे गए हैं। जिसका जवाब स्‍प्रीचुअल इंटेलीजेंस एंड लीडरशिप के लेखक अवधेश सिंह ने दिया है। आइए यहां पर जानें ये 10 बातें जो हैं इंटेलीजेंट लोगों की निशानी...

क्या आप वास्तविक जीवन की समस्याओं को हल कर सकते हैं?
बुद्धिमान लोग वास्तविक जीवन की समस्याओं को अच्‍छे से सुलझाते हैं। वास्तविक जीवन की समस्याएं किताबी समस्याओं से काफी अलग होती हैं। किताबी दुनिया में सही उत्तर पहले से ही ज्ञात होता है। यहां हर समस्या को एक गणितीय समस्या में सरल किया जाता है। जब कि वास्तविक दुनिया में, कोई भी स्थिति कभी भी समान नहीं है। यहां तक ​​कि जब समस्या समान होती है, व्यक्ति और परिस्थितियां अलग होती हैं। इसलिए, आपको वास्तव में वास्तविक जीवन की समस्याओं के समाधान खोजने के लिए वास्तव में बुद्धिमान होना चाहिए।



क्या आप सही काम के लिए सही लोगों को चुनते हैं?
जीवन में जब समस्या हल करने की बात आती है, तो किसी के लिए सभी समस्याओं का सही उत्तर जानना असंभव है। हालांकि, एक बुद्धिमान व्यक्ति अच्छी तरह से जानता है कि किसी विशेष समस्या को हल करने के लिए सही व्यक्ति कौन है। ऐसे में वह उस विशेष काम के लिए सही व्यक्ति चुनता है और हर समस्या को जल्दी और प्रभावी तरीके से हल करता है।

क्या आप अक्सर अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफल होते हैं?
अक्‍सर देखा जाता है कि साधारण्‍ा लोग हमेशा उन लोगों की बातों से प्रेरित होते हैं जो अक्सर उन्‍हें 'कुछ भी असंभव' जैसी बातें कहकर उन्हें मूर्ख बनाते रहते हैं।  'आप अपने जीवन में कुछ भी कर सकते हैं', 'हमेशा सकारात्मक और आशावादी रहें' आदि।  जब कि वहीं इंटेलीजेंट लोग खुद को अच्‍छे से जानते हैं। उन्‍हें पता होता है कि वे जहां हैं वहां पर कितना और क्‍या कर सकते हैं। हमेशा वे केवल ऐसे लक्ष्यों के लिए प्रयास करते हैं जो उनके क्षमता में होते हैं और जहां उनकी सफलता की संभावना होती है। इसलिए उनकी सफलताएं हमेशा उनकी विफलताओं से अधिक होती हैं। वहीं जो लोग दूसरों के कहने पर लक्ष्‍य प्राप्‍ित की ओर बढ़ते हैं। ऐसे में उनके फेल होने पर उन्‍हें कैसे बु्द्धिमान कहा जा सकता है।



क्या आपका रचनात्मक हैं?
क्रिएटिविटी यानी कि रचनात्मकता के बिना इंटेलीजेंसी अंसभव है। रचनात्मकता के बिना एक आदमी एक मशीन की तरह है जो कुशलता से उन कार्यों को पूरा कर सकता है जिनके लिए एक निश्‍चित डिजाइन तय होती है। जबकि हकीकत में वह अपने जीवन में खुद से कुछ भी नहीं कर सकता। बुद्धिमान व्यक्ति बेहद रचनात्मक होता है। थॉमस ए एडीसन ने कहा, "मैं विफल नहीं हुआ मुझे सिर्फ 10000 तरीके मिलते हैं जो काम नहीं करेंगे,। वह दृढ़ता के बारे में बात नहीं कर रहे थे, क्योंकि ज्यादातर लोग सिर्फ कल्पना करना चाहते हैं, लेकिन हां इस दौरान वे एक ही बात के लिए 10000 नए तरीके खोजने की अपनी रचनात्मकता का प्रदर्शन करते हैं। बुद्धिमान व्यक्ति हमेशा एक और नई विधि का पता लगाता है, यदि वर्तमान विधि काम नहीं करती है।

क्या आप खुश हैं?
यदि आप अपने जीवन से खुश नहीं हैं, तो आप निश्चित रूप से बुद्धिमान नहीं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके जीवन का पहला लक्ष्य खुश होना चाहिए और बुद्धिमान व्यक्ति के रूप में होना चाहिए। इतना ही नहीं आपको पता होना चाहिए कि आपको क्या खुश करता है और आप स्वयं और दूसरों के लिए सुख कैसे प्राप्त कर सकते हैं। ऐसे में यदि आप जीवन से निराश हैं, तो आप खुद को और दुनिया को समझ नहीं सकते हैं। ऐसी स्थिति में, आपको बुद्धिमान कैसे कहा जा सकता है?

क्या आप ज्ञान को संश्लेषित कर सकते हैं?
एक नहीं कई ऐसे उदाहरण सामने आ चुके हैं कि बुद्धिमान लोग महान विद्वान नहीं होते हैं। वे शायद ही कभी शीर्ष बिजनेस स्कूलों से अत्यधिक शिक्षित होते हों। वे अपना समय उन चीजों को सीखने में बरबाद नहीं करते हैं जिसका उन्‍हें उपयोग नहीं करना होता है। हालांकि उनके पास किसी से और हर किसी से सीखने की क्षमता होती है। इस संबंध में आइंस्टीन ने कहा है कि "सभी धर्म, कलाएं और विज्ञान एक ही वृक्ष की शाखाएं हैं।" ऐसे में यदि आप अपनी कला के ज्ञान, विज्ञान की थ्‍योरीज और और धर्म के सिद्धांतों का उपयोग अच्‍छे करते हैं, तो इससे साफ आप बुद्धिमान हैं। यदि आप अलग-अलग चीजों के बीच कनेक्शन नहीं खोज सकते हैं, तो आपको बुद्धिमान नहीं कहा जा सकता है।



क्या आप लोगों से बेहतर काम कर सकते हैं?

इंटेलिजेंट लोग मोस्‍ट ब्रिलिएंट नहीं होते हैं। उनमें यादें और धीमी विश्लेषणात्मक शक्ति होती है। इस संबंध में आइंस्टीन और न्यूटन के विस्मरण की कहानियां अच्छी तरह से चर्चित हैं। हालांकि, उनके पास 'ज्ञान का ज्ञान' है। इतना ही नहीं उनके पास दुनिया का मैक्रो-पिक्‍चर है। इसके अलावा वे जानते हैं कि व्यक्तिगत चीजें अपने उचित स्थान में कैसे फिट होती हैं। इसलिए जब वे चालाक और अधिक सफल लोगों से मिलते हैं। उस समय वे कमजोर नहीं होते हैं, बल्कि अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए उनकी ताकत का उपयोग करते हैं।

क्या आप लोगों के व्यवहार की भविष्यवाणी सटीक रूप से कर सकते हैं?

बुद्धिमान लोग हर स्थिति में सिर्फ अपने ही नहीं बल्‍कि दूसरों के व्‍यवहार की भविष्‍यवाणी करने में सक्षम होते हैं। वे शायद ही कभी आश्चर्यचकित होते हैं। जब लोग किसी विशेष तरीके से व्यवहार करते हैं, क्योंकि वे पहले से ही लोगों के अतीत के व्यवहार से उन्‍हें अच्‍छे से जानते हैं। जहां आम लोग अपने बारे में और दूसरों के बारे में भी आदर्शवादिता और सोच से उम्‍मीदें करते हैं। वहीं बुद्धिमान लोगों का व्यवहार यथार्थवादी मूल्यांकन पर आधारित होता है। इसलिए वे कभी लोगों से निराश नहीं होते क्योंकि उनकी उम्मीदें वास्तव में पहले से ही बिल्‍कुल सटीक होती है।



क्या आप भविष्यवाणी कर सकते हैं?
हालांकि ज्यादातर लोग भविष्य को बहुत अप्रत्याशित पाते हैं। जब कि बुद्धिमान लोग भविष्य से पहले ही भविष्य को जानते हैं। इसलिए वे हमेशा भविष्य के लिए तैयार रहते है। उन्‍हें लोगों और दुनिया के कानूनों के बारे में सटीक ज्ञान होता है। जिससे वे न केवल भविष्य की भविष्यवाणी करते हैं बल्कि उनके भविष्य भी बनाते हैं। हालांकि उनकी भविष्यवाणियां हमेशा बिल्कुल सही नहीं होती हैं, लेकिन हां अच्छे धनुर्धारियों की तरह, वे हमेशा बैल की आंखों के बहुत करीब तीर मारते हैं। ऐसे में भविष्य की उनकी भविष्यवाणी शायद ही कभी किसी निशान से कम है।

आप समस्याओं को रोक सकते हैं?

सामान्य लोग समस्याएं तब हल करते हैं और जब वे पैदा होती हैं। जबकि बुद्धिमान लोग समस्या और प्रभाव के बारे में अपने सटीक ज्ञान से समस्या पैदा होने से ही रोक देते हैं। वे जानते हैं कि इस दुनिया में अचानक कुछ नहीं होता है। जो भी होता है वह किन्‍हीं न किन्‍हीं कारणों से होता है। इसलिए कारणों को रोकते हुए वे समस्या के जन्म को रोकने में सक्षम होते हैं। अल्बर्ट आइंस्टीन ने यह बहुत बुद्धिमानी से कहा, "बौद्धिक लोग समस्याओं का समाधान करते हैं, प्रतिभाशाली उन्हें रोकते हैं।"

इस पार्क में छिपे हैं दो बाघ, खोजे तो जानें

Interesting News inextlive from Interesting News Desk