BAREILLY: मेयर डॉक्टर उमेश गौतम को ईमेल पर परिवार सहित जान से मारने की धमकी मिली है. धमकी मिलने के बाद मेयर समेत पूरा परिवार घबराया हुआ है. मेयर ने एसएसपी को शिकायत कर मामले में कार्रवाई की मांग की है. बताया जा रहा है कि मेल स्विटजरलैंड से आया है. मेल करने वाले ने अपने नाम की जगह अल्लाह रखा लिखा है और मेल का सब्जेक्ट दिया है वार्निग लॉस्ट, स्टॉप एनक्रोचमेंट. अल्लाह रक्खा जैसे नाम आईएस जैसे आतंकी संगठन इस्तेमाल करते हैं. पुलिस मामले की जांच में जुट गई है कि मेल वाकई स्विजरलैंड से आयी है या फिर किसी ने आईपी एड्रेस चेंज कर ऐसा किया है. क्योंकि मेल हिंदी में किया गया है और भाषा भी लोकल लग रही है.

8 जनवरी काे आयी मेल

मेयर उमेश गौतम ने बताया कि उनके ईमेल पर 8 जनवरी की रात 11 बजकर 50 मिनट 48 सेकंड पर मेल आयी. उन्होंने ट्यूजडे सुबह मेल चेक करना शुरू किया तो उन्हें सब्जेक्ट वार्निग लॉस्ट, स्टॉप इनक्रोचमेंट नाम की मेल नजर आयी. उन्हें लगा किसी अतिक्रमण से परेशान शख्स से मेल की होगी. यह मेल hominchi@protonmail.com से भेजी गई है. जब उन्होंने मेल पढ़ना शुरू किया तो उनके होश उड़ गए. क्योंकि मेल में उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई थी. इसके अलावा उनके परिवार को भी जान से मारने की धमकी दी गई है. जब उन्होंने इस ईमेल के आईपी एड्रेस के बारे में पता कराया तो यह स्विटजरलैंड का निकला. जिसके बाद उन्होंने एसएसपी से शिकायत की. एसएसपी ने एसपी सिटी को मामले में कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. उमेश गौतम ने बताया कि उन्हें पहले भी धमकी भरे मेल आए लेकिन उन्होंने ज्यादा गौर नहीं किया.

योगी जी बचाने नहीं आएंगे

हम आपके इरादों को समझ चुके हैं. हमारे --- के भाईयों पे आपका यह विनासकारी कोशिश सफल नहीं होने देंगे. आप शुरुआत से ही ---भाइयों पर अत्याचार कर रहे हैं. अब तो हद ही कर दी. यह इनक्रोचमेंट का तमाशा फोरन बंद कर दें. वार्ना हमें आपपे कार्रवाही करनी होगी. आप इसे चेतावनी न समझें. हमारे भाई हर जगह से आप पे नजर रख रहे हैं. यहां तक कि आपकी ऑफिस, हॉस्पिटल और यूनिवर्सिटी में भी हमारे दोस्त आपके इंतजार में हैं. याद रहे अगर आप हम --- भाईयों पे जल्दी से यह अत्याचार बंद न किये, तो हमें मजबूरन आपके और आपके परिवार को ठिकाने लगाना होगा और तब आपको पार्टी के यही नेता, जिनके बल पर आप योगी जी की यह गंदी इरादों को अंजाम दे रहे हैं. ये बचाने नहीं आएंगे. इसीलिए भलाई इसी में है, आप पीछे हट जाइये और जिंदगी के मजे लूटिए. वर्ना क्या पता यह जिंदगी ही न रहे. आपका शुभचिंतक अल्लाहरखा