क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : रिम्स परिसर में 20 दिन पहले बड़े ही तामझाम से आधार केंद्र का उद्घाटन हुआ था, लेकिन उसके दूसरे ही दिन से यहां ताला लटका है. यहां न तो आधार बन रहा है और न ही उसमें करेक्शन का काम हो रहा है. लोग यहां आकर निराश लौट रहे हैं. इस बाबत लोग हॉस्पिटल के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट के पास कंप्लेन भी दर्ज करा चुके हैं, लेकिन आधार केंद्र को खोलने के लिए कोई पहल नहीं हो रही है.

नवजात का नहीं बन रहा यूआईडी

रिम्स जन्म लेने वाले बच्चों का भी आधार आसानी से बन जाए, इसी मकसद से यहां आधार केंद्र खोला गया था, लेकिन इसके चालू नहीं होने से यहां बच्चों का आधार नहीं बन पा रहा है. बच्चे के जन्म के बाद से उनके परिजन इस केंद्र का चक्कर लगाना शुरू कर देते हैं, पर ताला लटके होने से उन्हें वापस हो जाना पड़ता है. ऐसे में वे या तो अपने नवजात का आधार दूसरे सेंटर पर बनवाते हैं अथवा बाद में बनाने की बात कहकर मामले को टाल देते हैं. मालूम हो कि सरकार ने एक दिन के भी नवजात का आधार बनाने का निर्देश सभी राज्य सरकारों को दिया है. इसी के मद्देनजर ही रिम्स में आधार केंद्र खोलने की कवायद हुई थी.

सरकारी भवनों में ही चलेगा आधार केंद्र

आधार कार्ड बनाने का काम पहले प्रज्ञा केंद्रों को दिया गया था. ऐसे में लोग आराम से यहां आकर अपना आधार बनवा लेते थे. लेकिन नई व्यवस्था के तहत आधार केंद्रों का संचालन अब सरकारी हास्पिटल के अलावा सरकारी भवनों में ही होगा. इसी के सहत सदर हास्पिटल, डीसीआफिस, रांची नगर निगम, के बाद रिम्स में इसकी शुरूआत की गई थी.