वाराणसी: शातिर बदमाशों को सलाखों के पीछे करने के लिए बनारस पुलिस ने रणनीति में कुछ बदलाव किया है. अब हर इनामी की धरपकड़ का जिम्मा पुलिस की एक अलग टीम को सौंप दिया गया है. इन टीमों में इनामी बदमाश की तलाश में लगे थाने के दरोगा और सिपाहियों के अलावा क्राइम ब्रांच और सर्विलांस विंग के दरोगा भी रहेंगे.

सब पर रखेंगे नजर

एसपी क्राइम ज्ञानेंद्रनाथ प्रसाद ने बताया कि हालांकि किसी भी इनामी बदमाश की लोकेशन अभी शहर में नहीं है मगर बीच-बीच में इनके मूवमेंट की सूचनाएं आती रहती हैं. क्राइम ब्रांच या एसटीएफ की टीमों का काम सभी की निगरानी करना है और यह काम कभी-कभी मुश्किल हो जाता है. इसके लिए अलग-अलग टास्क फोर्स बनाने का डिसीजन लिया गया है. यह टीमें इनामी की सुरागरसी के लिए उसके दोस्त, परिवार, रिश्तेदारों के अलावा दुश्मनों पर भी नजर रखेंगी. यही वो जगहें हैं जहां से बदमाशों का ठीक-ठीक पता चल सकता है.

कैसे काम करेगी टीम

सभी बदमाशों की जिले के किसी न किसी थाने में हिस्ट्रीशीट है. इसके अलावा थानाक्षेत्रों के किसी केस पर उनपर इनाम भी घोषित है. संबंधित थानों की फोर्स उनकी तलाश करती रहती है, साथ ही क्राइम ब्रांच और एसटीएफ भी इस टास्क में लगी रहती हैं. अब एक ही काम में लगी टीमों को साथ बैठाकर एक टास्क फोर्स बना दी जाएगी. इससे काम ज्यादा प्लानिंग और सटीक तरीके से हो सकेगा.

बयान

इनामियों की धरपकड़ ज्यादा कारगर तरीके से करने के लिए यह प्रयास किया जा रहा है. टीमें बन जाने से थानों और एजेंसियों के बीच बेहतर समन्वय बनेगा.

ज्ञानेंद्रनाथ प्रसाद, एसपी क्राइम वाराणसी

इन शातिरों की है तलाश

नाम इनाम

अताउर्रहमान उर्फ बाबू दो लाख

शहाबुद्दीन दो लाख

इंद्रदेव सिंह उर्फ बीकेडी एक लाख

मनीष कुमार सिंह 50 हजार

अजीम अहमद 50 हजार

सुनील यादव 50 हजार

सलीम उर्फ मुख्तार 50 हजार

विश्वास नेपाली 50 हजार

मो. शमीम उर्फ सरफराज 20 हजार

बशोपन 15 हजार

विनोद 15 हजार

मुन्नालाल 5 हजार

हारुन 5 हजार

कन्हैया यादव 5 हजार

राजू कसेरा 5 हजार

Crime News inextlive from Crime News Desk