घर घर में विवेकानंद, बस रामकृष्ण चाहिये

By: Inextlive | Publish Date: Thu 12-Jan-2017 07:40:03
A- A+
घर घर में विवेकानंद, बस रामकृष्ण चाहिये

राष्ट्रीय एकता दिवस की पूर्व संध्या पर शहर में हुये विविध आयोजन

ALLAHABAD: स्वामी विवेकानंद जयंती एवं राष्ट्रीय युवा दिवस की पूर्व संध्या पर शहर में विविध आयोजन हुये। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद प्रयाग महानगर इकाई की ओर से चौराहों पर लगी स्वामी जी की मूर्ति की साफ- सफाई की गई। माल्यार्पण के बाद महानगर मंत्री रिंकु पयासी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद युवाओं के प्रेरणास्त्रोत हैं। उनके साथ स्टूडेंट फॉर डेवलपमेंट के विकास पांडेय, राम बाबू तिवारी, सचिन गिरी, अश्विनी मौर्य आदि मौजूद रहे।

योगी के साथ उपयोगी भी बने

रामकृष्ण मठ मुट्ठीगंज के माघ मेला शिविर का उद्घाटन किया गया। इसमें इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में फिलासफी डिपार्टमेंट के हेड प्रो। ऋषिकांत पांडेय ने स्वामी विवेकानंद के विचार, व्यवहार और चरित्र से प्रेरणा लेने की सीख दी। स्वामी सर्वभूतानंद एवं पूर्व न्यायाधीश सुधीर नारायण ने भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि योगी के साथ उपयोगी भी बनें। स्वामी सहजानंद सरस्वती सामाजिक न्याय मंच के तत्वावधान में सेमिनार का आयोजन इलाहाबाद संग्रहालय में किया गया। इसका विषय था 'भारत को विश्वगुरु बनाने में युवाओं की भूमिका'।

विश्व बंधुत्व की कामना

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का शिकागो में दिया गया भाषण भारतीय संस्कृति के लिये मानक है। वे पूरे भारत में युवाओं के रोल मॉडल थे। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो। आरएल हांगलू ने कहा कि हर घर में विवेकानंद है। बस एक रामकृष्ण उन्हें जगाने वाला चाहिये। अध्यक्षता स्वामी सहजानंद सरस्वती ने की। विवेकानंद समता फाउंडेशन द्वारा सिविल लाइंस स्थित स्वामी जी की प्रतिमा पर पहुंचकर सफाई अभियान चलाया गया। पूर्वाचल प्रभारी डॉ। विवेक श्रीवास्तव ने विश्व में शांति एवं विश्वबंधुत्व की कामना की। इसमें रजनीश श्रीवास्तव, अनिल श्रीवास्तव, प्रेम प्रकाश आदि मौजूद रहे.

inextlive from Allahabad News Desk