- बिजली चोरी की फोटो व वीडियो भेज सकते हैं

- छापेमारी कर विजिलेंस टीम करेगी कार्रवाई

BAREILLY:

कटियामारों पर लगाम लगाने के साथ लाइन लॉस कम करने के लिए बिजली विभाग अब व्हाट्सएप को हथियार बनाने जा रहा है. विजिलेंस टीम ने एक मोबाइल नंबर जारी किया है, जिस पर पब्लिक बिजली चोरी कर रहे कटियामार की फोटो व डिटेल भेज सकेगी. पुख्ता सूचना के आधार पर विजिलेंस टीम धरपकड़ करेगी.

मुखबिर का नाम रहेगा गोपनीय

बिजली की चोरी का पता लगाने के लिए विजिलेंस टीम व्हाट्सएप नंबर 9756795294 जारी किया है. यह नंबर विजिलेंस इंस्पेक्टर का है. पब्लिक की मदद लेने के साथ ही अधिकारियों उनकी सुरक्षा का भी ध्यान रखा है. मतलब, सूचना देने वाले का नाम-नंबर गोपनीय रखा जाएगा. ताकि, इनफॉर्मर को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े

सात लोगों की टीम

बिजली टीम में फिलहाल सात लोग शामिल है. इनमें एक इंस्पेक्टर, एक दारोगा, 4 पुलिस और एक जेई शामिल हैं. पावर कॉरपोरेशन ने विजिलेंस टीम को महीने में दस लाख राजस्व वसूली की जिम्मेदारी सौंप रखी है. साथ ही, बिजली की चोरी कर रहे लोगों पर सख्ती के साथ पेश आने की बात कही है. ताकि, बिजली की चोरी पर रोक लगाई जा सके, जिसको देखते हुए विभाग ने व्हाट्सएप नंबर को सार्वजनिक किया है.

30 मेगावॉट बिजली की चोरी

तमाम कोशिशों के बाद भी बिजली की चोरी नहीं रुक रहीं है. शहर के प्रमुख मार्केट नॉवेल्टी, रोडवेज के सामने, आलमगिरीगंज, बड़ा बजार, श्यामगंज और कोहाड़ापीर में बिजली की चोरी होते हुए आसानी से दिख जाएगी. शहर में रोजाना सप्लाई हो रही 350 मेगावॉट बिजली में 30 मेगावॉट बिजली लाइनलॉस में जा रही है. जिसमें बिजली की चोरी एक बहुत मामला है. जिसे रोकने के लिए बिजली विभाग की टीम भी लगी हुई है.

बिजली की चोरी रोकने के लिए हमारा प्रयास जारी है. कहीं कोई बिजली चोरी कर रहा है, तो वह हमें इस नंबर के जरिए इंफॉर्मेशन दे सकते हैं. बिजली की चोरी में पकड़े गए लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

ओमवीर सिंह त्यागी, इंस्पेक्टर, विजिलेंस बिजली विभाग