GORAKHPUR: सहजनवा के मगहर सीहापार रोड पर हत्या कर जलाए गए शव की पहचान हो गई. दोनों शव सिद्धार्थनगर के चिल्हिया इलाके के गुजरवलिया गांव निवासी सगे भाई विजय सिंह और दिनेश सिंह की थी. विजय की पत्‍‌नी रून्धा ने प्रेमी और उसके सहयोगियों से मिलकर पति और देवर की हत्या कराई थी. पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल चाकू और गाड़ी बरामद करने के साथ ही आरोपी पत्‍‌नी समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. एक आरोपी अभी फरार है जिसकी तलाश में पुलिस टीम लगी है. गिरफ्तारी करने वाली टीम को एसएसपी ने 15 हजार रुपए नकद पुरस्कार से पुरस्कृत किया.

पुलिस ने किया खुलासा

पुलिस लाइंस में गुरुवार को एसपी नार्थ गणेश साहा ने प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का पर्दाफाश किया. एसपी ने बताया कि एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज के आदेश पर सीओ कैंपियरगंज और सहजनवा इंस्पेक्टर सौरभ राय सनसनीखेज घटना के पर्दाफाश में लगे थे. पुलिस के पास कोई सुराग नहीं था क्योंकि दोनों शव की पहचान भी नहीं हो सकी थी. जांच के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि विजय सिंह और दिनेश सिंह गांव से गायब है. गांव से पता चला कि दोनों शिवनाथ के साथ कहीं गए थे और वापस नहीं लौटे. इसके बाद पुलिस ने दोनों भाईयों को अंतिम बार देखने वाले साढ़ू फरेंदा के वीर सिंह से पूछताछ की तो पता चला कि दोनों शिवनाथ और उसके साथी विशाल शर्मा, विरेंद्र सोनकर, सूरज के साथ दिनेश के लिए लड़की देखने गए थे. हालांकि विजय की पत्नी का कहना था कि दोनों मुबंई कमाने गए हैं.

पत्‍‌नी के जरिए खुला राज

इतना ही नहीं पुलिस ने वह बाइक भी फरेंदा स्थित साढ़ू के घर से बरामद कर ली थी, जिसकी चाभी पुलिस ने शव मिलने वाली जगह से बरामद की थी. शक के आधार पर पुलिस ने पत्‍‌नी रून्धा को हिरासत में ले लिया. पूछताछ के बाद पुलिस ने पीपीगंज टोल प्लाजा के पास से शिवनाथ व उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त चाकू और कार भी बरामद कर ली.

50 हजार में दी थी सुपारी

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि विजय की पत्‍‌नी रून्धा शिवनाथ के दुकान पर दवा लेने गई थी, तभी दोनों की दोस्ती हो गई थी. बीते दो मार्च को शिवनाथ विजय के घर मौजूद था. रात में शराब के नशे में विजय और दिनेश ने रून्धा सिंह की पिटाई शिवनाथ से संबंध होने के शक में कर दी थी. इसके बाद ही हत्या की साजिश रची गई. इसके बाद दोनों भाईयों की हत्या के लिए शिवनाथ ने अपने दोस्त विरेंद्र से बात की. विरेंद्र के जरिए वह विशाल से संपर्क में आया और दोनों भाईयों की हत्या के लिए 50 हजार रुपए की सुपारी दे दी.

शराब पीलाकर की थी हत्या

चार मार्च को गाड़ी से शिवनाथ ने दिनेश के लिए लड़की दिखाने के बहाने दोनों भाईयों को बुलाया. फिर विरेंद्र, सूरज, विशाल से संपर्क कर दोनों भाई को कार में बैठा लिया और कोल्हुई में शराब पीने के बाद कार में ही चाकू से हत्या कर दी. चाकू वहीं पर छिपा दिए और फिर शव लेकर मगहर सीहापार रोड पर लाए. वहां पेट्रोल डालकर आग लगा दिए. ताकि शव की पहचान न हो सके. एसएसपी सत्यार्थ अनिरूद्ध पंकज ने इस मामले का पर्दाफाश करने वाली टीम को 15 हजार रुपए नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है.

Crime News inextlive from Crime News Desk