-रिहायशी व धार्मिक स्थलों के पास खुली शराब की दुकानें बंद कराने को ससंदीय कार्यालय में सौंप रहे ज्ञापन

-अनशन तो कहीं विरोध प्रदर्शन भी नहीं डिगा पा रहा शराब कारोबारियों के हौसले, महिलाएं ले रहीं मोर्चा

केस-वन

नई आबकारी नीति के तहत तेलियाबाग स्थित चर्च के पास खुली बीयर की दुकान बंद कराने के लिए पब्लिक ने डीएम और डीओ से गुहार लगाई, विरोध प्रदर्शन भी किया. बात नहीं बनी तो पीएम के ससंदीय कार्यालय भी जा पहुंचे. यहां जन सुनवाई कर रहे राज्यमंत्री अनिल राजभर ने विश्वास दिलाया कि चर्च कम्पाउंड के पास बीयर की दुकान नहीं खुलेगी. फिलहाल दुकान धड़ल्ले से चल रही है.

केस-टू

चेतगंज, लेबर सट्टी तिराहे के पास एक मकान के बेसमेंट में खुल रहे बीयर शॉप को बंद कराने के लिए क्षेत्रीय पार्षद शंकर साहु ने अनशन की चेतावनी दी है. पीएम ससंदीय कार्यालय, राज्यमंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी से लगायत डीएम-एसएसपी से शिकायत के बाद रविवार को डीएम से मिले आश्वासन पर 16 अप्रैल तक के लिए अनशन स्थगित कर दिया है.

केस-थ्री

लक्सा थाना के सामने खुले शराब के ठेके को बंद कराने के लिए पिछले दिनों पब्लिक सड़क पर उतर गई. जोरदार हंगामे के साथ विरोध प्रदर्शन हुआ. जिसमें स्थानीय लोगों के साथ पूर्व और वर्तमान पार्षद भी शामिल हुए. मगर, फिर भी दुकान बंद नहीं हो सकी. इसे लेकर पब्लिक ने डीएम, आबकारी अधिकारी से लगायत पीएम के संसदीय कार्यालय में गुहार लगाई है.

जनप्रतिनिधि भी कर रहे शिकायत

यह तीन केस तो महज एक बानगी भर है. नई आबकारी नीति 2018-19 में एलॉट हुई शराब-बीयर की दुकानें नियम के विरूद्ध खुल रही हैं तो पब्लिक बवाल काट रही. शहर के साथ-साथ गांव की डगर पर खुले देसी दारू-बीयर ठेकों को बंद कराने के लिए पब्लिक के साथ-साथ जनप्रतिनिधि भी सड़क पर उतर आए हैं. धरना-प्रदर्शन से जब बात नहीं बन रही है तो लोग क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि संग अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ससंदीय कार्यालय शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं. कुछ का निस्तारण हुआ तो कुछ मामले में अभी पब्लिक को कार्रवाई की आस है.

हर रोज पहुंच रहे शिकायतकर्ता

रविंद्रपुरी स्थित पीएम के जनसम्पर्क व संसदीय कार्यालय में लेटर देकर गुहार लगाने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. पिछले दस दिनों में एक दर्जन से अधिक शिकायतकर्ताओं ने ज्ञापन सौंपा है. यही नहीं, जन सुनवाई में आ रहे राज्यमंत्रियों व विधायक भी मसले को गंभीरता से लेते हुए संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दे रहे हैं.

महिलाओं ने नहीं बिकने दी बोतल

चुरामनपुर में शराब ठेके का विरोध कर रही महिलाएं रविवार को भी आंदोलनरत रहीं. शराब ठेका का घेराव कर एक भी बोतल नहीं बिकने दी. महिलाओं का आरोप है कि शिकायत पर पुलिस अभद्र भाषा का व्यवहार करती है. घेराव में सरिता पटेल, रागिनी, अनिमा, अंजलि, सन्नो, गीता, पार्वती आदि रहीं.

तेलियाबाग स्थित चर्च के पास बीयर शॉप बंद कराने के लिए डीओ से कई बार गुहार लगाई गई. थकहार कर पीएम के संसदीय कार्यालय में लेटर देकर शिकायत की गयी. राज्यमंत्री अनिल राजभर ने आश्वासन दिया है कि पब्लिक के साथ न्याय होगा.

महेंद्र सिंह गौतम, तेलियाबाग

पार्किंग बेसमेंट में खुल रही बीयर की दुकान बंद कराने के लिए उच्चाधिकारियों व पीएम जनसंपर्क कार्यालय में गुहार लगाई गई. सुनवाई नहीं होते देख जब अनशन की चेतावनी दी गई, तब जिला प्रशासन ने दुकान हटवाने का आश्वासन दिया.

शंकर साहु, पार्षद चेतगंज वार्ड

जहां-जहां से ऑब्जेक्शन के कम्प्लेन लेटर आ रहे हैं उस पर त्वरित कार्रवाई की जा रही है. जांच-पड़ताल की जा रही है. आबकारी नियम फॉलो नहीं करने वाले लाइसेंसी पर कार्रवाई भी होगी.

अजब सिंह चाहर, डिप्टी डीओ

शिकायतकर्ताओं के कम्प्लेन लेटर पर संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिया जा रहा है. जन सुनवाई में भी यह मुद्दा उठ चुका है.

शिव शरण पाठक, कार्यालय प्रभारी