Meerut: बदमाशों के दिमाग से पुलिस का खौफ पूरी तरह काफूर हो गया है. इसी का नतीजा है कि एक महीने में बदमाशों ने छह लोगों के ऐलानिया कत्ल कर डाले और पुलिस केवल मुकदमा दर्ज कर आरोपियों के सरेंडर का इंतजार करती रही.

12 फरवरी 2018

नरेंद्र हत्याकांड में सुजित लगातार सावित्री देवी के दामाद बबलू पर फैसले का दबाव बना रहा था. सुजित ने उसे फैसला न करने पर सरेआम कत्ल करने की धमकी दी थी. जब बबलू ने फैसला कराने से मना कर दिया तो उसकी 12 फरवरी को गोली मारकर हत्या कर दी गई.

3 फरवरी 2018 : चेतन हत्याकांड की गवाह सावित्री देवी की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

30 जनवरी 2018

गगौल गांव में शब्बीर को उसके पड़ोस में रहने वाले नफीस, अकरम और असलम ने खुलेआम कत्ल करने की धमकी दी थी. इसके बाद उन्होंने 30 जनवरी को उसकी गला काटकर हत्या कर दी.

24 जनवरी 2018

गत 20 जनवरी को सोहरखा गांव के मांगे ने वृद्ध महिला निछत्तर कौर व उसके बेटे बलविंदर को नरेंद्र हत्याकांड में अपने खिलाफ गवाही देने पर खुलेआम कत्ल करने की धमकी दी थी. बाद में मांगे ने विकास जाट व मोनू दहिया के साथ मिलकर निछत्तर कौर व बलविंदर की गोली बरसाकर हत्या कर दी थी.

18 जनवरी 2018

पटेल मंडप में टोनी पेंटर को भी उससे दोस्त ने पहले कत्ल करने की धमकी दी थी. इसके बाद उसकी गत 18 जनवरी को टोनी का गला काटकर उसकी हत्या कर दी गई. जिसमें पुलिस ने तीन लोगों को दबोच लिया था.

Crime News inextlive from Crime News Desk