शहर को सरकार को चुने गुजरे 17 महीने

- 10 महीने में एक कदम नहीं चला विकास

आगरा। शहर की सरकार को चुने हुए 17 महीने गुजर चुके हैं। इस सरकार ने 10 वार्डो के मोहल्लों को आदर्श रूप में विकसित करने का प्रपोजल तैयार किया था। कहा गया था कि छह से आठ महीनों में इन चुने गए मोहल्लों को आदर्श रुप में विकसित किया जाएगा, लेकिन इन आठ महीनों की तो छोडि़ए 10 महीने गुजर जाने के बाद एक कदम भी विकास आगे नहीं चला। यहां तक कि विकास के कदम जहां के तहां थम कर रह गए हैं। इन वार्डो की बुनियादी असुविधाओं को उकेरती ये रिपोर्ट

10 महीने पहले शहर में चुने गए थे 10 मोहल्ले

10 महीने पहले शहर में 10 वार्डो में 10 मोहल्लों का चयन किया गया था। दिवगंत पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्‍‌न अटल बिहारी वाजपेयी की यादों को सहेजने के नाम पर 10 मोहल्लों को चयनित किया गया था। इनको अटल आदर्श नवीन मोहल्ला योजना नाम दिया गया था। इन मोहल्लों में सर्वागीण विकास कराया जाना था।

छह से आठ महीनों में पूरे कराए जाने थे विकास कार्य

इन योजना के तहत जिन मोहल्लों का चयन किया गया था, उनमें छह से आठ महीनों में विकास कार्य पूरे कराए जाने थे। इसकी रूपरेखा तैयार की गई थी। एक दो मोहल्लों को छोड़ दें तो किसी भी मोहल्ले में बुनियादी सुविधाएं तक नदारद हैं। 10 महीने गुजर जाने के बाद भी विकास कार्य शुरु नहीं हो सके हैं।

इन मोहल्लों का किया गया था चयन

जिन 10 मोहल्लों का चयन किया गया था, उनमें तीन अनुसूचित जाति के, तीन अति पिछड़ा वर्ग के, चार सामान्य वर्ग के चयनित किए गए हैं। इनका चयन पार्षदों की चयन समिति के द्वारा किया गया था।

मोहल्ला

खटीक पाड़ा नुनिहाई

ईदगाह नगरिया नामनेर

अजीत नगर गेट, अर्जुन नगर

नगला अरहर, ताजगंज

शारदा बिहार, बोदला

देवरी नगर, नगला पदी

सेक्टर 8 ब्लॉक बी, आवास विकास सामान्य

रामस्वरूप कॉलोनी, आजमपाड़ा

खिड़की काले खां, मोती कटरा

सिंधी कॉलोनी, अशोक नगर

इन सुविधाओं की दरकार

-स्ट्रीट लाइट व्यवस्था

- ड्रेनेज सिस्टम व्यवस्था को दुरुस्त करना

- इंटरलॉकिंग टाइल्स खरंजे का निर्माण

- डस्टबिन और डस्टबिन की व्यवस्था

- सीवेज सिस्टम को दुरुस्त किया जाना

- पेयजल व्यवस्था को दुरुस्त करना

- पेयजल और सीवेज के लिए लाइन को बदला जाना

- मोहल्ले में सघन पौधारोपण

- शौचालय निर्माण

- रात में सफाई की व्यवस्था

- पार्को का सौन्दर्यीकरण इनका नाम अटल उपवन रखा जाएगा