dehradun@inext.co.in
DEHRADUN:
एजुकेशन हब देहरादून के निजी स्कूल्स 10वीं के बोर्ड रिजल्ट में भी फिसड्डी साबित हुए हैं। जबकि केवी, जवाहर नवोदय विद्यालय और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूल सबसे आगे हैं। सिटी के एकाध बड़े स्कूल को छोड़ कर अन्य मेरिट सूची में कोई भी बड़ा स्कूल जगह नहीं बना पाया है। 12वीं की तुलना में 10 वीं की बोर्ड परीक्षा में केंद्रीय विद्यालयों का प्रदर्शन भी दूसरी पॉजिशन पर खिसक गया है।

टॉप-3 की सूची में 11 स्टूडेंट्स
सीबीएसई के देहरादून रीजन में उत्तराखंड के अलावा यूपी के भी 15 जिले शामिल हैं। 10वीं के बोर्ड एग्जाम में 1664 स्कूल रजिस्टर्ड हैं। उत्तराखंड के टॉप-3 की सूची में 11 स्टूडेंट्स शामिल हैं। प्रदेशभर के 43 केंद्रीय विद्यालयों में 35 का परिणाम 100 फीसदी रहा है। कुल पास परसेंट 99.53 रहा है। देहरादून रीजन के स्कूल्स का रिजल्ट में सहायता प्राप्त स्कूल का पास प्रतिशत सबसे अच्छा रहा है। 99.73 परसेंट के साथ सहायता प्राप्त स्कूल फ‌र्स्ट पॉजिशन पर है। जबकि 99.63 पास परसेंट के साथ केंद्रीय विद्यालय सेकेंड पर जबकि 99.22 पास परसेंट के साथ जवाहर नवोदय विद्यालय थर्ड पॉजिशन पर है। प्राइवेट स्कूल का पास परसेंट 88.59 के साथ सबसे अंतिम पॉजिशन पर है।

देहरादून रीजन का रिजल्ट

सहायता प्राप्त

पास प्रतिशत 99.73

केंद्रीय विद्यालय

पास प्रतिशत-99.63

जवाहर नवोदय विद्यालय

पास प्रतिशत-99.22

तिब्बतन

पास प्रतिशत-98.03

सरकारी

पास प्रतिशत.92.14

प्राइवेट

पास प्रतिशत.88.59

कम्प्यूटर इंजीनियर बनना चाहती है टॉपर
सीबीएसई 10वीं बोर्ड एग्जाम में उत्तराखंड टॉप करने वाली शगुन मित्तल के पैरेंट्स डॉक्टर हैं। शगुन मित्तल के पिता डॉ। आशीष मित्तल मैक्स अस्पताल में आर्थो सर्जन हैं। मां डॉ। हिना मित्तल हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट में सेवाएं दे रही हैं। शगुन ने कहा कि माता-पिता उनके सबसे बड़े प्रेरणास्रोत हैं, शगुन कंप्यूटर इंजीनिय¨रग बनना चाहती है। शगुन मित्तल ने देश में थर्ड पॉजिशन प्राप्त की है। शगुन ने 500 में से 497 अंक प्राप्त किए हैं। शगुन ने कहा कि उनका कंप्यूटर इंजीनिय¨रग से विशेष लगाव रहा है। वह कंप्यूटर विषय सहित पीसीएम ग्रुप लेंगी। शगुन ने बताया कि वह डेढ़ से दो घंटे रोज पढ़ाई करती थीं। अंग्रेजी व कंप्यूटर विषय में ज्यादा मेहनत की थी। पढ़ाई के साथ उन्हें खेलकूद और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेना पसंद है। शगुन ने अंग्रेजी, गणित, हिन्दी व कंप्यूटर में 100 अंक प्राप्त किए। साइंस में 97 अंक मिले।