क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : 656 एकड़ में बननेवाली ग्रीन स्मार्ट सिटी में 122 साइकिल स्टेशन होंगे. शहर में हर 300 मीटर पर साइकिल स्टेशन होगा. पहले चरण में इन स्टेशनों पर 1264 साइकिल उपलब्ध कराई जाएगी. इसका उपयोग छात्र और नौकरी पेशालोग कर सकेंगे. साइकिल स्टेशन पर मिलनेवाली सभी साइकिल जीपीएस से कनेक्ट रहेंगी. इससे इनकी लोकेशन की जानकारी मॉनिटर की जा सकेगी. इससे ग्रीन सिटी में प्रदूषण कम होगा. सोमवार को यह बातें नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह ने यह जानकारी दी.

सोलर एनर्जी का होगा इस्तेमाल

नगर विकास सचिव ने कहा कि स्मार्ट सिटी में सबसे ज्यादा 20 प्रतिशत स्थान शिक्षण और स्किल डेवलपमेंट संस्थानों के लिए रखा गया है. इसमें 13 प्रतिशत पर आवासीय प्रतिशत और 10 प्रतिशत भूखंड पर कमर्शियल परिसर रहेगा. सोलर एनर्जी का अधिकाधिक उपयोग स्मार्ट सिटी में किया जाएगा. इस मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि ग्रीन सिटी ऐसी होनी चाहिए कि इसके बनने के सैकड़ों वर्षो के बाद भी इसके प्लानर को लोग याद रखें.

बिजली-पानी और सिवरेज-ड्रेनेज पर फोकस

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि ग्रीन स्मार्ट सिटी में अधिक से अधिक ओपेन स्पेश हो और प्रकृति के अनुरुप लैंडस्केपिंग हो. उन्होंने ग्रीन सिटी में बिजली, पानी तथा सिवरेज-ड्रेनेज की व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने को कहा. उन्होंने कहा कि इस शहर में आनेवाले लोगों को लगना चाहिए कि वे एक विशिष्ट प्राकृतिक सौंदर्यवाले शहर का भ्रमण कर रहे हैं. बैठक में नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा समेत कई अधिकारी मौजूद थे.