22 किमी लंबा रूट

6 लाख डेली करते हैं सफर

15 लाख का रोज कारोबार

45 एरिया इस रूट से जुड़े हैं

120 सिटी बसें इस रूट पर

35 सौ ऑटो इस रूट पर

12 हजार ई रिक्शा भी मौजूद

- सिटी का सबसे कमाऊ रूट है अमौसी से चारबाग, निशातगंज होते हुए मुंशीपुलिया

- डेली 6 लाख से अधिक पैसेंजर्स करते हैं इस रूट पर सफर

LUCKNOW: अमौसी से मुंशीपुलिया जिस रूट पर मेट्रो दौड़ रही है, वह शहर का सबसे कमाऊ रूट है। डेली इस रूट पर पैसेंजर्स से होने वाली कमाई करीब 15 लाख रुपए है। यही कारण है कि इस रूट से ऑटो, सिटी बस, ई रिक्शा हटने को तैयार नहीं हैं। ऑटो, ई रिक्शा संचालकों के साथ ही सिटी बस प्रबंधन की मानें तो इस रूट से उनके हटने से न केवल उनकी कमाई पर असर पड़ेगा बल्कि लोगों को भी काफी परेशानी होगी।

सिटी का सबसे लंबा रूट

आरटीओ के सर्वे के अनुसार यह रूट न केवल सिटी का सबसे लंबा रूट है, बल्कि सर्वाधिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट वाले वाहन भी इसी रूट पर चल रहे हैं। पैसेंजर्स का दबाव भी इस पर सबसे ज्यादा है। यही कारण है कि ऑटो, सिटी बस और ई रिक्शा संचालक इस रूट से हटना नहीं चाहते हैं।

45 इलाके रूट से जुड़े

आरटीओ के अधिकारियों के अनुसार अमौसी से मुंशीपुलिया तक के इस रूट पर मार्केट, प्राइवेट और सरकारी संस्थानों, कॉलेजों आदि के चलते सुबह से देर रात तक पैसेंजर्स मिलते हैं। वहीं सिटी के करीब 45 एरिया इस रूट से कनेक्ट होते हैं। दूसरे नंबर पर अमौसी से चारबाग, हजरतगंज, लोहिया पथ होते हुए गोमतीनगर से बीबीडी का रूट है।

बॉक्स

6 लाख से अधिक डेली करते हैं सफर

अमौसी से मुंशीपुलिया के बीच डेली 6 लाख से अधिक लोग सफर करते हैं।

- सिटी बसों से यात्रा करने वाले पैसेंजर्स करीब 15 हजार।

- इस रूट पर 3500 ऑटो में सफर करने वाले यात्री करीब 3 लाख।

- 12 हजार से ज्यादा ई रिक्शा इस रूट पर, 2.5 लाख लोग डेली करते हैं यात्रा।

- ओला, उबर, बाइक टैक्सी, टेम्पो में डेली जर्नी करने वाले लोगों की संख्या करीब 50 हजार।

- इस रूट पर डेली करीब 15 लाख का कारोबार पब्लिक ट्रांसपोर्ट से हो रहा है।

कोट

मेट्रो रूट से हटने पर ऑटो और ई रिक्शा संचालकों की आय प्रभावित हो जाएगी। उनके घरों में चूल्हा जलना मुश्किल हो जाएगा। इसीलिए हम इस रूट से हटने का विरोध कर रहे हैं।

पंकज दीक्षित, अध्यक्ष

लखनऊ ऑटो रिक्शा एंड थ्री व्हीलर संघ

कोट

बसों के संचालन के लिए यह सबसे बड़ा रूट है। यहां पैसेंजर्स भी सबसे ज्यादा हैं। अन्य रूट पर अतिरिक्त बसों को चलाने से कोई फायदा नहीं होगा।

आरिफ सकलेन

एमडी, सिटी बस प्रबंधन

कोट

इस रूट से वाहनों को हटाए जाने के लेकर हुई बैठक की रिपोर्ट डीएम को भेजी जा चुकी है। यह बात सही है कि इस रूट पर ही सर्वाधिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट व्हीकल दौड़ रहे हैं।

एके सिंह, आरटीओ

परिवहन विभाग

बाक्स

इसे भी जानें

सबसे लंबा रूट

अमौसी से चारबाग, निशातगंज, पॉलीटेक्निक होते हुए मुंशीपुलिया।

दूसरा सबसे लंबा रूट

अमौसी से चारबाग, हजरतगंज, लोहिया पथ, गोमती नगर होते हुए बीबीडी

बाक्स

सबसे कम भीड़ वाले रूट

- अमौसी से चारबाग, कैसरबाग होते हुए चौक

अमौसी से चारबाग से नाका होते हुए राजाजीपुरम

गोमती नगर से बिजली पासी किले तक