उलिहातू में 'बिरसा जन पंचायत' का आयोजन, सुदेश महतो ने किया एलान

ह्मड्डठ्ठष्द्धद्ब@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ (15 हृश्र1) : राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदेश महतो ने बिरसा मुंडा की 150 फीट ऊंची प्रतिमा 'स्टै्च्यू ऑफ उलगुलान' बनवाने की घोषणा की है. श्री महतो मंगलवार को बिरसा जयंती के अवसर पर भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली उलिहातू में 'बिरसा जन पंचायत' कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. श्री महतो ने कहा कि बिरसा मुंडा ने आदिवासी समाज के बीच 'उलगुलान' के बीज डाले थे. भगवान बिरसा की गौरवगाथा को देश भर में अमर बनाए रखने के लिए 'स्टै्च्यू ऑफ उलगुलान' बनाने का निर्णय इस पंचायत ने लिया है.

देश की सबसे ऊंची प्रतिमा

वर्तमान में हनुमान जी की 135 फीट ऊंची प्रतिमा देश की सबसे ऊंची मूर्ति है, जो विजयवाड़ा में स्थित है. यदि यह प्रतिमा सरदार बल्लभ भाई पटेल की स्टै्च्यू ऑफ यूनिटी से पहले बन गयी तो यह भारत की सबसे बड़ी प्रतिमा होगी. ज्ञात हो कि बिरसा मुंडा ने अंग्रेजों के खिलाफ उलगुलान की शुरुआत की थी.

बिरसा जन पंचायत कार्यक्रम आजसू पार्टी द्वारा आयोजित की गई थी. इसमें झारखंड के महानायक अमर शहीद बिरसा मुंडा एवं शहीद सिद्धो-कान्हू के परिजन शामिल हुए. साथ ही बिरसा के अनुयायी बिरसाइत धर्म के लोगों ने भारी संख्या में पांपरिक वेशभूषा में शिरकत की.

पंचायत को संबोधित करते हुए सुदेश महतो ने कहा कि जब अंग्रेज आदिवासियों की सुरक्षा के लिए कानून बना सकते हैं, तो फिर ऐसी क्या जरूरत है कि आपकी भावनाओं को छेड़ने का प्रयास किया जा रहा है. सीएनटी-एसपीटी एक्ट के रहते झारखंड में सड़कें बनीं, एचइसी जैसी कंपनियां स्थापित हुईं, फिर इसमें संशोधन की क्या आवश्यकता है?

हर घर से मांगा सहयोग

'स्टै्च्यू ऑफउलगुलान' के निर्माण के लिए झारखंड के हर घर से श्री महतो ने सहयोग मांगा. साथ ही साथ हर गांव से पत्थर देने का भी आह्वान किया. इस मौके पर प्रतिमा के निर्माण के लिए एक कमेटी बनाई गई, जिसके संयोजक बिरसा मुंडा के वंशज सुखराम सिंह मुंडा होंगे.

इस मौके पर रामदुर्लभ सिंह मुंडा ने प्रतिमा स्थापित करने के लिए जमीन देने की घोषणा की.