मौसम में सुधार होने से मिली राहत
कानपुर। तिब्बत में कैलाश मानसरोवर तीर्थयात्रा से लौटने वाले भारतीय यात्रियों की भीड़ ने कल दोपहर के बाद से थोड़ी राहत महसूस की। काठमांडू पोस्ट के मुताबिक थोड़े से अच्छे मौसम की वजह से मंगलवार को सिमिकोट हवाई अड्डे से लगभग एक दर्जन उड़ानों की अनुमति दी गर्इ थी। इससे यहां फंसे यात्री आैर उनके परिजनों को भी थोड़ा सुकून मिला है एयरलाइंस ऑपरेटरों के मुताबिक, 150 से ज्यादा भारतीय तीर्थयात्रियों को मंगलवार को सिमिकोट से नेपालगंज तक ले जाया गया है।

कैलाश मानसरोवर यात्रा : फंसे तीर्थयात्रियों को निकालने का काम शुरू,जारी हुए हेल्‍पलाइन नंबर

हेलीकाॅप्टर से ले जाए जा रहें यात्री
वहीं 250 यात्री हिल्सा से सिमिकोट से हेलिकॉप्टर से जाए गए। सिता एयर अकेले सिमिकोट से 91 यात्रियों को ले गर्इ। अभी तिब्बत में करीब 1,000 से अधिक यात्री हैं। बता दें कि बीते दो दिनों कैलाश मानसरोवर यात्रा दौरान खराब मौसम की वजह से काफी परेशानी हो रही थी।नेपाल-चीन सीमा लगातार बारिश की वजह से भूस्खलन हो रहा था। काठमांडू पोस्ट के मुताबिक नेपाल के पहाड़ी क्षेत्र सिमिकोट-हिल्सा मार्ग में 1500 से ज्यादा श्रद्धालु फंसे गए थे। इसमें दो श्रद्धालुआें की मौत भी हो गर्इ थी।

कैलाश मानसरोवर यात्रा : फंसे तीर्थयात्रियों को निकालने का काम शुरू,जारी हुए हेल्‍पलाइन नंबर

सुषमा स्वराज काफी एक्टिव थीं

नेपाल में फंसे तीर्थयात्रियों को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज काफी एक्टिव थी।वह फंसे यात्रियों आैर उनके परिजनों की हर संभव मदद के लिए लगातार ट्वीट कर रही हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि करीब 525 तीर्थयात्री सिमिकोट में, 550 तीर्थयात्री हिलसा में और करीब 500 तीर्थयात्री तिब्बत के पास फंसे हुए हैं। सुषमा ने फंसे हुए यात्रियों व उनके परिजनों की हेल्प के हाॅटलाइन नंबर जारी किए हैं। भारत इन फंसे हुए श्रद्धालुआें को निकालने के भारत लगातार काठमांडू से संपर्क बनाए है।

कैलास मानसरोवर यात्रा का पहला जत्था रवाना, इस रास्ते जाएंगे ये 33 तीर्थयात्री

अमरनाथ यात्रा के लिए 3,499 तीर्थयात्रियों का एक आैर जत्था रवाना, छाए बादल बारिश की संभावना

National News inextlive from India News Desk