-दिन में दून घूमे और नाइट स्टे के लिए गए थे विकास नगर

-170 बच्चों का दल आया था यूपी से देहरादून घूमने

-दो बच्चे पानी में बह गए, देर रात तक तलाश नाकाम

-एसडीआरएफ के साथ सुबह फिर चलेगा सर्च ऑपरेशन

देहरादून

मुजफ्फर नगर से देहरादून स्कूल टूर पर घूमने आए तीन स्टूडेंट सैटरडे इवनिंग में विकासनगर में यमुना नदी के तेज बहाव में नहाने उतरे और बह गए। एक स्टूडेंट को स्थानीय लोगों ने बचा लिया, जबकि दो डूब गए। विकासनगर थाना और जल पुलिस देर रात तक बांध में बोट और राफ्ट के सहारे बच्चों की तलाश में जुटी थी। देर रात ऋषिकेश से एसडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच गई।

सीओ विकासनगर भूपेन्द्र सिंह धोनी ने बताया कि मुजफ्फरनगर के संधावली में अल जहरा चेरिटेबल ट्रस्ट के 170 बच्चे तीन बसों में भरकर 2 दिन के टूर पर देहरादून आए थे। दिन में बडे बच्चे एफआरआई में और छोटी क्लास वाले दून जू में घूमने के बाद नाइट स्टे के लिए विकासनगर के इमामबाड़ा अंबाडी पहुंचे। इमामबाड़ा से शाम चार बजे करीब 7 बच्चे टीचर से नजर बचाकर नहाने के लिए आसन बैराज पहुंच गए। वहां सेंट मैरी स्कूल के पीछे की तरफ बैराज से पहले ही यमुना नदी में पानी के तेज बहाव में नहाने उतरे तीन बच्चे जफर अली, मोहम्मद हुसैन, और अनवर पानी में बहने लगे। साथ के अन्य स्टूडेंट्स ने शोर मचाया तो आसपास के कुछ युवक पहुंचे। अनवर को स्थानीय युवकों द्वारा बचा लिया गया शेष दो बच्चे जफ र अली व मोहम्मद हुसैन पानी में डूब गए।

साढ़े चार बजे हुआ हादसा:

साथ के अन्य स्टूडेंटस ने पुलिस और टीचर्स को बताया कि हादसा शाम साढ़े चार बजे हुए। 20 वर्षीय अनवर, 13 वर्षीय जफर अली और 17 वर्षीय मोहम्मद हुसैन जहां नहाने उतरे वहां तेज बहाव था। वे पानी में बहने लगे और बाहर खड़े अन्य स्टूडेंट्स ने शोर मचाया। शोर सुन आसपास के कुछ युवक पहुंच और उन्हों ने पानी में छलांग लगाई। एक युवक अनवर तैरने का प्रयास करने के कारण पानी की सहत पर नजर आ रहा था, उसे तो स्थानीय युवकों ने बचा लिया, लेकिन जफर और हसैन देखते देखते काफी दूर तक बहने के पानी में डूब गए।

चार घंटे सर्च ऑपरेशन नाकाम: बच्चों के डूबने की सूचना पर सीओ विकासनगर पुलिस टीम लेकर मौके पर पहुंचे। आसन बैराज पर बनी जल पुलिस चौकी के जवान भी आए और बच्चों राफ्ट लेकर पुलिस टीम बांध में उतरी। बच्चों के बहाव स्थल से बांध तक करीब एक किमी एरिया में चार घंटे की मशक्कत के बाद भी दोनों बच्चों को सुराग नहीं लगा। पुलिस ने एसडीआरएफ के साथ सुबह फिर सर्च ऑपरेशन चलाने की बात कही है।

बच्चे जिस चैरिटेबल ट्रस्ट के थे वह अनाथ बच्चों की देखभाल तथा शिक्षा का कार्य कार्य करता है। उक्त तीनों बच्चे अनाथ हैं जिनकी देखभाल ट्रस्ट द्वारा की जा रही थी। डूबने से बचाए गए अनवर को उपचारके लिए पहले कालिंदी अस्पताल विकास नगर ले जाया गया, जहां से उसे दून रैफर कर दिया गया। उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

इनका कहना:

बच्चे नदी के तेज बहाव वाले एरिया में नहाने उतर गए। ऐसे में बह गए। शाम से रात तक सर्च ऑपरेशन के बाद भी दोनों बच्चों का पता नहीं चला। सुबह फिर सर्च ऑपरेशन चलाया जाएगा।

भूपेन्द्र सिंह धोनी, सीओ विकासनगर