- सरोजनी नगर द्वितीय के अंतर्गत आजाद नगर के लोगों को मिली राहत

- दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने कई बार प्रमुखता से प्रकाशित की थी समस्या

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW आखिरकार सालों से बदहाल सड़क का 'जख्म' झेल रहे सरोजनी नगर द्वितीय के अंतर्गत आने वाले आजाद नगर की जनता को राहत मिलती नजर आ रही है. वजह है कि मेयर की ओर से 14वें वित्त आयोग के अंतर्गत सड़क निर्माण को हरी झंडी दे दी है. खास बात यह है कि इस इलाके की समस्या को दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने कई बार प्रमुखता से प्रकाशित किया था. जिसको मेयर संयुक्ता भाटिया ने संज्ञान में लिया था. इसका ही असर रहा कि मेयर ने 14वें वित्त के अंदर सड़क निर्माण संबंधी कदम उठाया.

400 मीटर की सड़क

इलाके के लोगों की माने तो 25 से 30 सालों से 400 मीटर सड़क बदहाल है. सड़क गड्ढों में तब्दील हो चुकी है. जिससे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. बारिश के दिनों में हालत और भी खराब हो जाती है. अक्सर लोग गड्ढों में गिरकर घायल हो जाते हैं. जलभराव की स्थिति इतनी खराब होती है कि बच्चे स्कूल तक नहीं जा पाते.

मिला सिर्फ आश्वासन

लोगों की माने तो मंत्री से लेकर मेयर और पार्षद के समक्ष कई बार सड़क निर्माण की मांग रखी. जिम्मेदारों ने इलाके का निरीक्षण किया, आश्वासन दिया लेकिन सड़क नहीं बनी. इसके बाद लोगों ने लोक मंगल दिवस में भी कई बार बदहाल सड़क की शिकायत दर्ज कराई. जिसका अब असर देखने को मिला. 14वें वित्त आयोग की धनराशि मिलने के बाद मेयर ने सड़क निर्माण की स्वीकृति दे दी.

बाक्स

डीजे आई नेक्स्ट ने उठाया बीड़ा

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने बदहाल सड़क और उससे होने वाली समस्याओं को कई बार प्रकाशित किया. जिसे मेयर ने संज्ञान में लिया और सड़क निर्माण का रास्ता प्रशस्त हुआ. सड़क बनने संबंधी निर्णय सामने आने के बाद लोगों ने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट को थैंक्स बोला है.

बाक्स

जनता से बातचीत

लंबे इंतजार के बाद सड़क निर्माण का रास्ता साफ हुआ है. सड़क बनने से परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा. अब राहत मिलना तय है.

सुकुन देवी

बदहाल सड़क के कारण स्थिति खराब थी. बारिश में तो यहां से गुजरना तक संभव नहीं था. अक्सर लोग सड़क पर व्याप्त गड्ढों में गिर जाते थे.

गोपाल मिश्र

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने हमारी समस्या को प्रमुखता से उठाया. मेयर ने 14वें वित्त में सड़क निर्माण का रास्ता साफ किया, जिससे सभी को राहत मिलेगी.

अशोक ओझा