- पीजीआई के तेलीबाग में सोमवार तड़के की घटना

- आधा दर्जन बदमाशों ने दिया वारदात को अंजाम

- दंपति को बाथरूम में बनाया बंधक

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : राजधानी में बेखौफ डकैतों ने एक बार फिर से दस्तक दे दी है. सोमवार तड़के पीजीआई के तेलीबाग एरिया में डकैतों ने एक किराना कारोबारी के घर पर धावा बोल दिया. तीन ताले तोड़कर घर में दाखिल हुए डकैतों ने कारोबारी दंपति को बाथरूम में बंधक बना लिया और अलमारी में रखी 35 लाख रुपये की ज्वैलरी व 15 लाख रुपये कैश लूटकर फरार हो गये. शोर सुनकर जागे कारोबारी के बेटे ने बंधक बने माता-पिता को बाहर निकाला और पुलिस को घटना की सूचना दी. जानकारी मिलने पर एसएसपी कलानिधि नैथानी तमाम अधिकारियों व पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और छानबीन की. शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने कुछ सुराग मिलने का दावा किया है.

तोड़ दिये तीन चैनल के ताले
तेलीबाग बाजार निवासी मोतीलाल अग्रवाल किराना के थोक व्यवसायी हैं. उनके परिवार में पत्‍‌नी सरोज, बेटा आकाश, बेटियां पूजा व श्रद्धा हैं. पूजा पुणे और श्रद्धा नोएडा में प्राइवेट कंपनी में काम करती हैं. दो दिन पहले ही श्रद्धा छुट्टियों पर घर आई थी. रविवार रात मोतीलाल व उनका परिवार डिनर के बाद अपने-अपने कमरों में चला गया. सोमवार तड़के आधा दर्जन नकाबपोश डकैत उनके घर में तीन चैनल के ताले तोड़कर भीतर दाखिल हो गए. मकान में दाखिल होने के बाद डकैत सीधे फ‌र्स्ट फ्लोर पर स्थित मोतीलाल के बेडरूम में पहुंचे. जहां वे अपनी पत्‍‌नी सरोज के साथ सो रहे थे.

गोली मारने की दी धमकी
डकैतों ने बेडरूम में रखी अलमारी का लॉकर तोड़ना शुरू किया. आवाज सुनकर मोतीलाल व सरोज की नींद खुल गई. आधा दर्जन बदमाशों को सामने देख उनके होश उड़ गए. उन्होंने शोर मचाने की कोशिश की लेकिन, बदमाशों ने उन्हें असलहे दिखाकर गोली मारने की धमकी देकर चुप करवा दिया. इसके बाद बदमाशों ने मोतीलाल व सरोज से उनके मोबाइल फोन छीन लिये और सरोज से अलमारी की चाभी मांगी. बुरी तरह डर चुकीं सरोज ने तुरंत अलमारी की चाभियां बदमाशों को सौंप दी. जिसके बाद बदमाशों ने अलमारी का लॉकर खोलकर उसमें रखी 35 लाख रुपये की ज्वैलरी और 15 लाख रुपये नकद समेट लिये. माल समेटने के बाद बदमाशों ने मोतीलाल व सरोज को बाथरूम में बंद कर दिया. इसके बाद वे सीधे दुकान में पहुंचे और वहां पर कैश काउंटर को तोड़कर उसमें रखी नकदी समेटकर फरार हो गए.

बेटे ने बाथरूम से निकाला
बदमाशों के जाने के काफी देर बाद मोतीलाल ने हिम्मत बटोरी और बाथरूम के दरवाजे को पीटा. जिसे सुनकर दूसरे कमरे में सो रहे बेटे आकाश की नींद खुल गई. अनहोनी की आशंका में आकाश ने बहन श्रद्धा को भी जगाया और वे दोनों माता-पिता के बेडरूम में पहुंचे. जहां का नजारा देख उनके होश उड़ गए. बाथरूम से आवाज सुनकर उन्होंने दरवाजा खोला तो वहां मोतीलाल व सरोज हाथ-पैर बंधे हुए जमीन पर पड़े थे. आकाश ने तुरंत उनके हाथ-पैर खोले और उन्हें बाथरूम से बाहर निकाला. आकाश ने ही पुलिस कंट्रोल रूम को कॉल कर घटना की सूचना दी.

सीसीटीवी फुटेज में दिखे डकैत
मोतीलाल ने बेसमेंट में बनी दुकान, गोदाम व घर की गैलरी में कैमरे लगवा रखे हैं. सीओ कैंट तनु उपाध्याय के मुताबिक, शुरुआती पड़ताल में सीसीटीवी फुटेज में बदमाशों के चेहरे साफ दिखाई दिये हैं. इसी फुटेज की मदद से बदमाशों की शिनाख्त की कोशिश की जा रही है. वहीं, एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि घटना के खुलासे के लिये क्राइम ब्रांच की एक टीम समेत कुल पांच टीमों को लगाया गया है. उन्होंने बताया कि बदमाशों की मॉडस ऑपरेंडी देखकर लगता है कि बदमाशों को मकान के बारे में पूरी जानकारी थी. घटना की साजिश रचने में मोतीलाल के किसी वर्तमान या पूर्व कर्मचारी की संलिप्तता से इंकार नहीं किया जा सकता है.