- उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने जल्द टाइम टेबिल घोषित करने का निर्देश दिया

- फरवरी माह में ही संपन्न हो जाएंगी हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं

 lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं सात फरवरी, 2019 से शुरू होंगी. उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग में इसके निर्देश दिए. उन्होंने 16 कार्यदिवसों में ही दोनों परीक्षाएं संपन्न कराने के लिए कहा है. यूपी बोर्ड की ओर से शुक्रवार तक पूरी परीक्षा का टाइम टेबिल घोषित किए जाने के आसार है.

सभी सब्जेक्ट के होंगे एक-एक प्रश्नपत्र
गौरतलब है कि पिछली बार यूपी बोर्ड की परीक्षाएं छह फरवरी, 2018 से शुरू हुई थीं और दस मार्च तक चली थी. उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि इस बार परीक्षाएं फरवरी माह में ही संपन्न करा ली जाएं. चूंकि इस साल हाईस्कूल और इंटरमीडिएट में सभी विषयों के एक-एक ही प्रश्नपत्र हैं, इसलिए बोर्ड के लिए इसमें समस्या भी नहीं होगी. योजना भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये परीक्षा की तैयारियों की समीक्षा करते हुए डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि फरवरी, 2019 में त्योहार अवकाश और कुंभ पर्व भी है. परीक्षा तिथियों के निर्धारण में इनका भी ख्याल रखा जाए. उन्होंने कहा कि जिला विद्यालय निरीक्षक 15 सितंबर तक केंद्रों के निरीक्षण का काम पूरा कर लें. परीक्षा केंद्र निर्धारण में किसी भी प्रकार की अनियमितता पर जिला विद्यालय निर क्षक को प्रथमत: दोषी माना जाएगा.

जीपीएस से लैस होंगे कंट्रोल रूम
उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि वर्ष 2018 की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए मानदेय का भुगतान तत्काल करा लिया जाए. उत्तर पुस्तिकाओं में डी कोडिंग प्रक्रिया अपनाई जाए. बालिकाओं हेतु यथासंभव स्वकेंद्र परीक्षा केंद्रों का निर्धारण किया जाए. केंद्र निर्धारित होने के उपरांत किसी भी दशा में परिवर्तन नहीं होगा. जनपद स्तर पर एक कंट्रोल रूम की स्थापना की जाए, जहां पर प्रत्येक केंद्र का पूर्ण विवरण उपलब्ध रहे. प्रत्येक केंद्र जीपीएस से लिंक किया जाए. साथ ही केंद्र निर्धारण विसंगति की शिकायत केलिए एक अतिरिक्त ई-मेल आईडी बनाई जाए. समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा संजय अग्रवाल, सचिव संध्या तिवारी, विशेष सचिव चंद्र विजय तिवारी और निदेशक माध्यकि शिक्षा विनय कुमार पांडेय मौजूद रहे.