------------------

टिहरी: मंगलवार रात हुई बारिश के चलते हुए लैंड स्लाइड में टिहरी के बूढ़ाकेदार इलाके के कोट गांव में एक मकान ध्वस्त हो गया. घर में सो रहे परिवार के सात सदस्य जिंदा दफन हो गए. जबकि एक किशोरी को करीब चार घंटे की मशक्कत के बाद मलबे से जिंदा निकाल लिया गया. परिवार के सभी मृतकों के शव बरामद कर लिये गए हैं.

संभलने का भी नहीं मिला वक्त

राज्य में रुक-रुक कर मूसलाधार बारिश का दौर जारी है. भारी बारिश ने टिहरी जिले के भिलंगना ब्लॉक के बूढ़ाकेदार इलाके में जमकर तबाही मचाई. जिला मुख्यालय से करीब 90 किलोमीटर दूर कोट गांव में एक मकान पहाड़ी से गिरे मलबे की चपेट में आ गया. इसमें मोर सिंह और उसके दो भाई हुकुम सिंह व राकेश का परिवार रहता था. मलबा इतना ज्यादा था कि मकान पूरी तरह ध्वस्त हो गया. हादसे के वक्त घर पर तीनों परिवारों के 8 सदस्य सो रहे थे. उन्हें संभलने तक का वक्त नहीं मिला. सभी मलबे में दब गए. मोर सिंह के दोनों भाई हुकुम सिंह और राकेश चंडीगढ़ में काम करते हैं, वह तो घर पर नहीं थे, लेकिन उनका परिवार इसी मकान में था.

14 वर्षीय बच्ची जिंदा निकाली

बुधवार सुबह आसपास के लोगों को घटना का पता चला. इसके बाद ग्रामीण परिवार की खोजबीन में जुटे. कुछ देर बाद राजस्व और स्वास्थ्य विभाग की टीम भी मौके पर पहुंच गई. हादसे की सूचना पर डीएम सोनिका भी मौके पर पहुंची. सुबह करीब आठ बजे मोर सिंह की चौदह वर्षीय बेटी बबली को चार घंटे की खोजबीन के बाद मलबे से जिंदा निकाल लिया गया. वह पत्थरों की ओट में मिली.

मलबे से निकाली 7 डेड बॉडी

एडीएम शिव चरण द्विवेदी ने बताया कि मलबे में दफन अन्य सात सदस्यों की पहचान कर ली गई है. इनमें तीन बच्चे, तीन महिलाएं और एक पुरुष शामिल हैं. इनमें एक महिला गर्भवती थी. सुबह सात बजे से देर शाम साढ़े छह बजे तक चले रेस्क्यू में सभी के शव बरामद कर लिए गए. उन्होंने बताया कि ध्वस्त मकान के पास के दो अन्य मकानों को खतरा पैदा हो गया है, इन्हें खाली करा कर पास के स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया है.

मृतकों की सूची

मोर सिंह (32)पुत्र उमा सिंह

हंसा देवी (28)पत्‍‌नी मोर सिंह

संजू देवी (24)पत्‍‌नी हुकुम सिंह

लक्ष्मी देवी (24)पत्‍‌नी राकेश

आशीष (11)पुत्र मोर सिंह

अतुल (8)पुत्र हुकुम सिंह

स्वाति (3)पुत्री राकेश