सुरक्षा की मांग को लेकर दिया इस्तीफा देर शाम हुआ वापस

Meerut . नौचंदी बिजलीघर में तैनात लाइनमैन के साथ मारपीट और उसे जबरन बिजली चोरी में फंसाने के विरोध में बुधवार को शहर व देहात के 700 से अधिक निविदा लाइनमैन ने सामूहिक इस्तीफा देकर विद्युत विभाग के अधिकारियों को बैकफुट पर आने के लिए मजबूर कर दिया. इस्तीफे से विद्युत विभाग में हडकंप मच गया और देर शाम आरोपी ईएक्सईएन और लाइनमैन के बीच समझौता कराकर इस्तीफा वापस ले लिया गया.

बैठक में लिया निर्णय

सोमवार को नौचंदी बिजलीघर पर तैनात लाइनमैन आसिफ को बिजली चोरी में लिप्त होने के शक के आधार पर ईएक्सईएन संजय शर्मा ने पूछताछ के लिए बुलाया था. इस दौरान आसिफ की हालत बिगड़ने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस मामले में निविदा संविदा कर्मचारी सेवा समिति के सैंकड़ों लाइनमैन ने ईएक्सईएन के खिलाफ अपना रोष जाहिर करते हुए बुधवार को नौचंदी मैदान में मीटिंग का आयोजन किया था जिसमें सामूहिक इस्तीफे का निर्णय लिया गया था.

देर शाम हुआ समझौता

700 से अधिक लाइनमैन के इस्तीफे के बाद देर शाम एक्सई संजय राणा के कार्यालय में लाइन मेन का बुलाकर ईएक्सईएन संजय शर्मा से बातचीत कराकर आपसी समझौता करा दिया गया. समझौता होने के बाद लाइनमैन यूनियन अपने इस्तीफे को वापस लेकर काम पर लौट गई.

लाइनमैन की जो मांग थी, उसके अनुसार जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी. बाकि जो गलत फहमी थी वो दूर कर दी गई है.

संजय राणा, एक्सई

इस मामले में हमारे इस्तीफे के बाद देर शाम हमारी मांगे मान ली गई. एक्सई के कहने पर लाइनमैन ने इस्तीफा वापस ले लिया है.

कासिफ, यूनियन अध्यक्ष