agra@inext.co.in
AGRA : बलिया के डायट (जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान) बाबू पर ठगी का आरोप है। आरोप है कि उसने आगरा के कई युवकों से नौकरी लगवाने के नाम पर 90 लाख रुपये ठग लिए। उन्हें बीटीसी के फर्जी प्रमाण पत्र भी दे दिए। पीडि़त ने मामले में मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट किया है।

परिचित बाबू की दी जानकारी
थाना न्यू आगरा स्थित दयालबाग की कृष्णा बाग कॉलोनी निवासी कुलदीप कुमार के मुताबिक वह एमए व बीएड हैं। वर्ष 2011 में उनके भाई सुजीत कुमार के परिचित शिक्षक बृजभूषण (गांव सिकरौदा, फतेहपुरसीकरी) से मुलाकात हुई। बृजभूषण ने बलिया के थाना बासौड़ी के गांव केदारपुर निवासी अजय कुमार चौहान के बारे में बताया कि वे बलिया डायट में बाबू हैं और अब तक तमाम लोगों की नौकरी लगवा चुका है। मामले के मुताबिक अजय चौहान छह नवंबर 2011 को अपने दो भाइयों, बेटे और पत्नी के साथ आगरा आया। यहां बृजभूषण ने उनकी मुलाकात कराई। अजय ने नौकरी लगवाने में पांच लाख का खर्चा बताया। बलिया में कंपनी चलाने वाली अपनी पत्नी के बैंक खाता का नंबर देते हुए उसमें रकम जमा कराने को बोला।

कई के रुपये कराए जमा
कुलदीप के मुताबिक उनके अलावा अन्य दर्जनों लोगों ने खाते में रुपये जमा करा दिए। यह रकम करीब 90 लाख रुपये आंकी जा रही है। इसके बाद अजय चौहान ने 18 मार्च 2015 को कुलदीप समेत सभी युवकों को पत्राचार बीटीसी प्रशिक्षण के कार्यमुक्ति प्रमाण पत्र भेजे। इनकी जांच की तो सभी प्रमाण पत्र फर्जी निकले। कुलदीप ने अजय चौहान से रकम लौटाने की कहा तो टालमटोल करने लगा।

अन्य स्थानों पर भी शिकायत
आरोपितों के बारे में जानकारी करने पर पता चला कि उनके विरुद्ध अन्य जगहों पर भी धोखाधड़ी के मुकदमे दर्ज हैं। मामले में कुलदीप कुमार ने चार जनवरी को न्यू आगरा थाने में अजय कुमार चौहान, उसके दोनों भाइयों, बेटे एवं पत्नी के अलावा बृजभूषण दुबे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इंस्पेक्टर न्यू आगरा आदित्य कुमार के मुताबिक आरोपित अजय कुमार चौहान को बुधवार को आगरा से गिरफ्तार कर लिया है।

मेरठ में छात्रा से अश्लीलता, बस परिचालक को लोगों ने जमकर पीटा

Crime News inextlive from Crime News Desk