लखनऊ (पीटीआई) । उत्तर प्रदेश सरकार कैदियों के लिए जेलों की दशा सुधारने जा रही है। बहुत जल्द कैदी जेल के अंदर से देश दुनिया के बारे में जानकारी हासिल कर सकेंगे। महानिरीक्षक (कारागार) पीके मिश्रा ने पीटीआर्इ को बताया कि जेलों में टीवी आदि खरीदे जाने के लिए सवा तीन करोड़ सैंतीस लाख रुपये मंजूर हुए हैं। उत्तर प्रदेश में कुल 72 जेल हैं। एेसे में पहले चरण में प्रदेश के 64 कारागारों के लिये 900 टीवी खरीदे जाएंगे। इसमें लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर की जेलों में सबसे अधिक 30-30 एलईडी टीवी लगाए जाएंगे।

टीवी लगाने का मकसद मनोरंजन के साथ कैदियों में सुधार लाना भी
इसके अलावा मुरादाबाद, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, आजमगढ़, इटावा और वाराणसी की जेलों में 25-25 एलईडी टीवी लगेंगे। वहीं, बरेली, चित्रकूट और बाराबंकी में 20-20 टीवी लगेंगें।  30 नवंबर 2018 तक जेलों में टीवी लग जाएंगे। इस संबंध में वरिष्ठ अधिकारी पीके मिश्रा ने बताया कि टीवी लगाए जाने के लिए विभिन्न कंपनियों से निविदाएं मंगवाई गई हैं। उन्होंने कहा कि जेल में टीवी लगाने का मकसद मनोरंजन के साथ कैदियों में सुधार लाना भी है।टीवी के माध्यम से उन्हें आध्यात्मिक संदेश, प्रवचन, योगा, आदि भी सिखाया जा सकेगा।

माड्यूलर किचन की सुविधा से कैदियों को नहीं पकाना पड़ेगा खाना
इसके अलावा कैदियों को समाज आैर देश भक्ति से भरी फिल्में दिखाकर जागरुक किया जाएगा। इसके साथ ही यह भी बताया कि प्रदेश की सभी जेलों के किचन भी हार्इटेक होंगे। यहां आधुनिक मशीनों से खाना पकाने की व्यवस्था करने का लक्ष्य रखा गया है। यह साल के अंत तक पूरा भी हो जाएगा। इससे कैदियों को जेल की रसोई में खाना पकाने से निजात मिल जाएगी। फिलहाल प्रदेश की 25 जेलों में यह सुविधा प्रदान की अभी फिलहाल राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश की 25 जेलों में अत्याधुनिक माड्यूलर किचन की सुविधा मिल रही है।

म्यांमार में अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी के दो पत्रकारों को सात साल की जेल

आईजी जेल ने गोरखपुर जिला जेल का किया निरीक्षण

National News inextlive from India News Desk