घूरपुर में रेलवे ट्रैक के किनारे जख्मी हाल में मिला यूवक, अस्पताल ले जाते समय हुई मौत

परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने तीन आरोपियों के खिलाफ दर्ज किया नामजद केस

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: घूरपुर थाने से कुछ दूरी पर सेमरा कल्बना गांव के राजू नामक युवक की पहले लाठी डंडे व लोहे की राड से जमकर पिटाई की गई. फिर जख्मी हाल में उसे रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया. आसपास के लोग जब तक उसे अस्पताल पहुंचाते उसकी मौत हो गई. पुलिस ने मामले में परिजनों की तहरीर के आधार पर तीन आरोपियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज किया है. हत्या के पीछे मकान का विवाद बताया जा रहा है.

वकील के बुलाने पर गया

घूरपुर के सेमरा कल्बना गांव का राजू पुत्र अहमद सब्जी का ठेला लगाता था. रविवार को उसने घर वालों को बताया कि उसे वकील ने बुलाया है उससे मिलने जा रहा है, आने में देर हो जाएगी. जब वह देर रात तक घर नहीं लौटा तो परिवार वालों ने खोजबीन शुरू की.

गांव वालों की नजर पड़ी

सोमवार सुबह शौच के लिए निकले गांव वालों की नजर थाने से कुछ दूरी पर स्थित एक कालेज के पीछे रेल लाइन पर पड़ी तो देखा कि राजू ट्रैक के किनारे खून से लथपथ पड़ा कराह रहा है. गांव वालों ने तत्काल परिजनों के साथ स्थानीय पुलिस को सूचना दी. मौके पर पहुंचे परिजन उसे इलाज के लिये जसरा स्थित निजी अस्पताल ले गये. वहां डाक्टर्स ने रामबाग स्थित प्राइवेट हास्पिटल ले जाने को कहा. दूसरे अस्पताल जाते समय रास्ते में राजू की मौत हो गई.

एंबुलेंस के साथ पहुंचे थाने

राजू की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया. वे शव को एम्बुलेंस में लेकर घूरपुर थाने पहुंचे और जमीन के विवाद मे हत्या का आरोप लगाते हुये आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग करने लगे. एसओ अरविन्द त्रिवेदी ने मामले को गम्भीरता लेते हुये तहरीर के आधार पर जमील व छंगे पुत्रगण कल्लू पहलवान निवासी चकघनश्याम दास करमा तथा पवर गांव के गिरीश कुशवाहा के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया. उन्होंने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसआरएन भेजा.

कानुपर से दो दिन पहले लौटा

राजू की पत्नी दिलवरी बेगम ने बताया की राजू पांच दिन पूर्व कानपुर एक रिश्तेदारी की गमी में शामिल होने गया था. दो दिन पूर्व वहा से आकर शहर में रूका था. शनिवार को घर आया और रात में रहने के बाद रविवार सुबह कहा कि तुम लोग बूदावा पैतृक घर चली जाओ. मुझे सेमरा कल्बना में एक वकील ने किसी काम से बुलाया है. इसके बाद घर से निकल गए. उसने बताया कि रेल लाइन से अस्पताल ले जाते समय उन्होंने बताया कि नामजद आरोपियों ने उनकी पिटाई के बाद रेलवे लाइन पर फेंका था.

विवाद की क्या थी वजह

परिजनों ने बताया की राजू का पैतृक निवास बुदावा गांव में है. वहां उसका अपना मकान है. आरोपी उसी मकान पर कब्जा करना चाह रहे थे. इसी को लेकर विवाद चल रहा था. मामला न्यायालय में विचाराधीन भी है. आरोपी जमील राजू के मकान को अपना बताकर बेचने का सौदा भी कर चुका था. राजू दो भाईयों मे बड़ा था. छोटा भाई संजय अलग रहता है. राजू के चार मासूम बेटे मुस्लिम, साहिल, शहनवाज, शाहिद व एक बेटी गौसिया है.

जान से मारने की दी थी धमकी

राजू की पत्नी सहित परिजनों ने बताया की जमीन के विवाद को लेकर तीन दिन पूर्व आरोपियों ने जान से मारने की धमकी दी थी.

किस वकील ने किया था फोन

रविवार सुबह राजू के मोबाइल पर काल कर किसी अधिवक्ता ने मामले में सुलह के लिए बुलाया था. यही नहीं गांव से बाहर मंदिर के निकट पार्टी को लेकर भी गांव वाले चर्चा कर रहे थे. बताया जाता है कि रविवार रात को राजू को लोगो ने देखा था. पुलिस राजू के मोबाइल को कब्जे में लेकर उस वकील के बारे में पता लगा रही है, जिसने उसे फोन कर बुलाया था.

वर्जन

हत्या के पीछे मकान का विवाद सामने आया है. फिलहाल जांच की जा रही है. मृतक के परिजनों से मुलाकात कर घटना और विवाद की जानकारी ली गई है. तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर एसओ को कार्रवाई का निर्देश दिया गया है.

अमित कुमार श्रीवास्तव, सीओ, करछना