आना जाना 44 किमी
जी हां तिरचिरापल्ली के रहने वाले जगन्नाथ सेल्वराज कुछ साल पहले दुबई गए थे। वह दुबई में सोनापुर में एक सार्वजनिक पार्क में रहते हैं।48 साल जगन्नाथ भारत आने की कोशिश में तब से जब उन्‍हें अपनी मां की मौत की सूचना मिली थी। वह उनके अंतिम संस्‍कार में शामिल होने की कोशिश में थे लेकिन उन्‍हें सफलता नहीं मिली है। उन्‍हें वहां पर विमान का टिकट हासिल करने के लिए कानूनी प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ रहा है। ऐसे में उनके घर से कोर्ट की एक तरफ की दूरी कुल 22 किलोमीटर है। जिससे आना जाना करीब 44 किलोमीटर है। वह लगातार दो साल से अदालत के चक्‍कर लगा रहे हैं।

भारत आने की चाह में 1 हजार किलोमीटर पैदल चला ये शख्स

आर्थिक हालत ठीक नहीं

जगन्‍नाथ की आर्थिक हालत ज्‍यादा ठीक नहीं है। उनके पास इतने भी पैसे नहीं हैं कि वह वह कोर्ट तक जाने में बस का टिकट ले सकें। ऐसे में भारत वापस आने की चाहत में उन्‍होंने दुबई के व्यस्त राजमार्गों पर धूल धूप और गर्मी से भी परहेज नहीं किया। पैदल कोर्ट की सुनवाई में जाने का निश्‍चय किया। जिससे वह हर 15 दिन में एक बार कोर्ट की सुनवाई में पैदल जाते हैं। पैदल कोर्ट तक जाने में एक तरफ की यात्रा में दो घंटे लगते हैं। वह हर सुनवाई में 4 घंटे में 44 किलोमीटर की दूरी तय करते है। जगन्‍नाथ कोर्ट की सुनवाई में अब तक 1000 से किलोमीटर से अधिक पैदल चल चुके हैं।
यहां भी क्‍लिक करें: मौत को दी मात, कोमा से जागी बच्‍ची

Weird News inextlive from Odd News Desk

Weird News inextlive from Odd News Desk