तीन दशक बाद बदली एक पार्टी की सत्‍ता
सोलह मई 2014 को देश तोकतंत्र में एक बड़ा राजनीतिक बदलाव आया जब लगभग तीन दशक बाद एक पार्टी की सरकार बदल कर पूर्ण बहुमत से किसी राजनीतिक दल को आम चुनावों में जीत हासिल हुई। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी के नेतृत्‍व में सत्‍ता संभाली। 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी ने शपथ ग्रहण की। सरकार के दोसाल पूरे होने पर अब 'दैनिक जागरण' ने पांच दिनों तक सरकार के प्रमुख लक्ष्यों को केंद्र में रखकर 'बदलाव के 2 साल' शीर्षक से विस्तृत आकलन करने का प्रयास किया। इसके लिए जनता से सीधे संपर्क करके उनकी राय जानने का प्रयास किया गया।

जनता से सीधे पूछे सवाल
सर्वे एजेंसी 'हंसा' के माध्यम से जनता से सीधे सवाल पूछे गए। 16 से 21 मई, 2016 के बीच हुए इस सर्वे में अलग अलग सेक्टर में उसकी राय जानने की कोशिश की गई। सर्वे का सैंपल साइज 5,034 था। इसमें सभी आयु वर्ग व महिला पुरुषों दोनों को ही केंद्र में रख कर सवाल पूछे गए। यह सर्वे देश के चारों कोनों के 16 छोटे-बड़े राज्यों में हुआ, जिसमें गांवों, कस्बों, शहरों से ले कर महानगरों तक को शामिल किया गया। 'दैनिक जागरण' ने ये सवाल पूरे देश में हिंदी और गैर हिंदी भाषी जनता दोनों से ही किए।

Modi

अच्‍छे नंबर मिले एनडीए सरकार को
सर्वे में जनता की तरफ से मिली प्रतिक्रिया में अधिकतर क्षेत्रों में मोदी सरकार को बहुत अच्छे नंबर मिले। कुछ क्षेत्रों में जनता अभी अपेक्षा से कम संतुष्ट है। कुछ क्षेत्र तो ऐसे हैं जिनमें जनता असंतुष्ट भी है। सर्वे में एक हेरान करने वाला तथ्‍य सामने आया जब बड़ी संख्या में देश के पुरुषों व खासकर पूर्वी भारत के लोगों ने माना है कि मोदी सरकार अल्पसंख्यकों के हितों के बारे में सकारात्मक ढंग से सोच रही है।

सामने आये कुछ रोचक तथ्‍य
सर्वे के नतीजों में कुछ रोचक तथ्य भी उभर कर सामने आए हैं। मसलन, एक ऐसा राज्य जहां एक साल पहले भाजपा गठबंधन की हार हुई थी वहां की जनता ने जातिवाद और दलगत राजनीति से ऊपर उठकर कई क्षेत्रों में केंद्र सरकार के कामकाज को सराहा है। ऐसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरों पर सोशल मीडिया व राजनैतिक हलकों में नकारात्मक जनधारणा के बावजूद यह माना गया है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस सरकार का कामकाज बहुत अच्छा रहा है और देश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठा भी हासिल हुई। देश में बड़ी संख्या में महिलाएं ही नहीं पुरुष भी यह मानते हैं कि महिलाओं को पुरुषों के साथ कदम मिलाकर चलने के लिए मोदी सरकार ने काफी ठोस कदम उठाए हैं।

मिलीजुली है राय
इस सर्वे के लिए कुल 15 सेक्टर तय किए गए थे और इनमें कुछ ऐसे बड़े मुद्दे भी थे मसलन, भ्रष्टाचार, काला धन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, रक्षा, अल्पसंख्यक विकास, गरीबी उन्मूलन। साथ ही विकास, आंतरिक सुरक्षा और सामाजिक समरसता जैसे रूखे विषयों पर भी जनता की राय जानी गई है। कुछ मसलों में जनता ने खुल कर संतुष्टि जताई तो कुछ में जनता ने सरकार को केवल पास होने लायक नंबर दिए। साथ ही कुछ में जनता की प्रतिक्रिया नकारात्मक भी रही। जो आंकड़े सामने आए हैं उनमें सरकार को लेकर क्षेत्रवार जनता की सोच की भी झलक दिखती है। सर्वे का परिणाम बृहस्पतिवार यानी 26 मई के दैनिक जागरण में विस्तार से प्रकाशित होगा। 

National News inextlive from India News Desk

National News inextlive from India News Desk