ranchi@inext.co.in
RANCHI: स्मार्टफोन के दुष्प्रभाव से केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) भी अनजान नहीं है. इसकी गंभीरता को देखते हुए सीबीएसई ने स्कूलों को निर्देश जारी किया है कि बच्चे स्कूल परिसर व स्कूल बसों में भी इंटरनेट तथा इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का प्रयोग न करें. यह सुनिश्चित करना स्कूल का काम है. बहुत जरूरी होने पर ही आधिकारिक अनुमति के बाद स्कूल में इंटरनेट और गैजेट्स का प्रयोग होगा. बिना अनुमति के अगर कोई इसका इस्तेमाल करते पकड़ा गया तो कार्रवाई होगी.

जारी किए हैं निर्देश
स्कूलों में मोबाइल, आइपैड, लैपटॉप, टैबलेट को प्रतिबंधित कर दिया है. साथ ही स्कूलों को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के सुरक्षित उपयोग पर नियम बनाने व उसे लागू करने के लिए भी कहा गया है. यदि स्कूल में इसका प्रयोग करते छात्र पाए गए, तो संबंधित स्कूलों पर कार्रवाई होगी. बोर्ड ने स्कूल और बसों में इंटरनेट और डिजिटल तकनीकी के सुरक्षित व प्रभावी इस्तेमाल के लिए 18 बिंदुओं पर दिशा-निर्देश जारी किया है.

स्कूलों को इनका करना है अनुपालन

- स्कूल में मोबाइल फोन प्रतिबंधित करें

- फोन लाने वाले पर हो कार्रवाई हो.

-स्कूलों में डिजिटल सर्विलांस की व्यवस्था करें.

- बच्चों को आउटडोर गेम के लिए प्रोत्साहित करें.

- कम्प्यूटर स्क्रीन की तरफ सीसीटीवी कैमरा हो.

- कम्प्यूटर से संबंधित नियमों की जानकारी सार्वजनिक जगहों पर लगाएं.

- अभिभावकों को इंटरनेट सुरक्षा पॉलिसी के बारे में जानकारी दें.

- छात्रों के लिए चुनिंदा वेबसाइट तय करें और उसे ही खोलने दें.

- छात्रों को इंटरनेट प्रयोग और सुरक्षा के बारे में बताएं.

- छात्रों के कम्प्यूटर के प्रयोग का समय सुनिश्चित करें.

- कम्प्यूटर इस्तेमाल करने की जगह खुली हो,