-मलेरिया और डेंगू के अलावा शहर में चिकनगुनिया का प्रकोप

-डॉक्टर्स के पास रोजाना आ रहे 20 से 25 संक्रमण के मामले

Meerut . चिकनगुनिया मलेरिया और डेंगू की तरह ही मच्छर से फैलने वाला रोग है. इस बुखार में जहां पूरे शरीर में ऐंठन होती वहीं, हड्डियों के जोड़ों में जबरदस्त पेन होता है. यह बुखार एक सप्ताह में ही रोगी की हालत पस्त कर देता है. शहर में चिकनगुनिया के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. ऐसे मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है.

कैसे फैलता है चिकनगुनिया

दरअसल, चिकनगुनिया बीमारी का फैलाव चिकनगुनिया मच्छर के काटने से होता हैं. चिकनगुनिया फैलाने वाला यह मच्छर जब किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है तो उसकी लार में यह वायरस पहुंच जाता हैं. फिर यह मच्छर के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाते हैं. इस रोग से पीडि़त व्यक्ति 9 से 10 दिन तक व्यक्ति रोग फैलाने की क्षमता रखता हैं.

ये हैं लक्षण -

-जी मिचलना

-भूख कम लगना

-मांसपेशियों में दर्द

-जोड़ो में तेज दर्द

-जोड़ों में सूजन

-कमजोरी आना

-शरीर पर चकते निकलना

-ठण्ड लगकर तेज बुखार आना

-सिरदर्द

चिकनगुनिया का इलाज

चिकनगुनिया के वायरस शरीर के अंदर नष्ट करने के लिए कोई विशेष दवा या वैक्सीन अभी तक उपलब्ध नहीं हैं. डॉक्टर चिकनगुनिया का इलाज करने के लिए लक्षण के हिसाब से दवा दी जाती है. डॉक्टर जोड़ो एवं अन्य दर्द के लिए पेन किलर देते हैं. बुखार आने पर पैरासिटामोल दवा दी जाती हैं. चिकनगुनिया से पीडि़त लोगों का पर्याप्त मात्रा में लिक्विड लेने की सलाह दी जाती है.

ऐसे करें बचाव

- घर के अन्दर और आस-पास पानी जमा न होने दे.

- बर्तन को खाली कर रखे या उसे उलटा कर कर रख दे.

- अगर आप किसी बर्तन, ड्रम या बाल्टी में पानी जमा कर रखते है तो उसे ढक कर रखे.

- अगर किसी चीज में हमेशा पानी जमा कर रखते है तो पहले उसे साबुन और पानी से अच्छे से धो लेना चाहिए, जिससे मच्छर के अंडे को हटाया जा सके.

- घर में कीटनाशक का छिडकाव करे.

-कूलर का पानी रोज नियमित बदलते रहे.

- किसी भी खुली जगह में जैसे की गड्डो में, गमले में या कचरे में पानी जमा न होने दे. अगर पानी जमा है तो उसमे मिटटी डाल दे.

-खिड़की और दरवाजे में जाली लगाकर रखे. शाम होने से पहले दरवाजे बंद कर दे.

---

चिकनगुनिया मच्छर से फैलने वाला रोग है. इसके लक्षण बिल्कुल डेंगू की तरह होते हैं. लक्षण पाए जाने पर तुरंत जांच करानी चाहिए. चिकनगुनिया लक्षण के रोजाना 20 से 25 मरीज आ रहे हैं.

-डॉ. तनुराज सिरोही, अध्यक्ष आईएमए