कछार की जमीनों के रेट दस फीसदी तक हुए कम

सर्किल रेट प्रपोजल में नही बढ़ाए गए जमीनों के दाम

25 सितंबर तक आपत्ति दर्ज कराने का दिया गया समय

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: हाई कोर्ट की तरफ से प्रतिबंध लगाये जाने के बाद भी तेजी से आबाद हो रहे कछार एरिया पर अफसर भी मेहरबान हैं. कछार एरिया की जमीन के रेट में कोई बढ़ोत्तरी न किया जाना प्रस्तावित कर दिया गया है. इस पर आपत्ति मांगी गयी है. डीएम सर्किल रेट के प्रस्तावों में शहर की जमीन का रेट भी ज्यादा बढ़ाने का प्रस्ताव नहीं है. अधिकतम दस फीसदी का ही प्रस्ताव है. इसे नोटबंदी और सरकार के कड़े कदम के बाद जमीन की रजिस्ट्री में आयी कमी से जोड़कर देखा जा रहा है. प्रशासन की तरफ से सर्किल रेट की फाइनल सूची इस महीने की 29 तारीख को जारी की जाएगी.

निर्माण अवैध, बढ़ाने का मतलब नही

गंगा और यमुना से घिरे इलाहाबाद शहर में नदियों के किनारे बहुत बड़ा एरिया बस चुका है. यहां पर हजारों की संख्या में घर बने हुए हैं. इनमें लगभग हर साल बारिश के मौसम में नदियों का पानी प्रवेश भी कर जाता है. इस एरिया का सर्किल रेट उम्मीद थी कि इस साल बढ़ेगा लेकिन प्रशासन ने इसमें दस फीसदी की कमी कर दी है. अधिकारियों का तर्क है कि यह प्रतिबंधित एरिया है और यहां निर्माण अवैध है. इसलिए जमीनों का दाम बढ़ाने का कोई तुक नही बनता है.

यहां भी पिछला रेट जारी

शहर और मैदानी एरिया का सर्किल रेट भी नही बढ़ाया गया है. सिविल लाइंस, कटघर, मुट्ठीगंज, कीडगंज, राजापुर, झलवा आदि एरिया में जमीनों के दाम पूर्व की भांति रखे गए हैं. अधिकारियों ने मेजा और कोरांव के सर्किल रेट भी सेम रखे हैं. कही भी जमीनों के दाम बढ़ोतरी नही की गई है. प्रशासन ने पूर्व में दस फीसदी तक दाम बढ़ाने की बात कही भी लेकिन अब उस पर भी अमल नही किया.

नुकसान को फायदे में बदलने की कवायद

प्रशासन के इस कदम को नोट बंदी के बाद से उत्पन्न हुई आर्थिक नुकसान से जोड़कर देखा जा रहा है. इसके बाद से लगातार रजिस्ट्री की संख्या में गिरावट हुई है और सरकारी आय का भी नुकसान हुआ है. यही कारण है कि पिछले सर्किल रेट में महज आठ से दस फीसदी की बढ़ोतरी हुई, जिसे इस साल घटाकर जीरो कर दिया गया है. सरकार द्वारा दिए गए राजस्व वसूली के लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रशासन ने जमीनों के दाम बढ़ाने में कोई दिलचस्पी नही दिखाई है.

25 तक समय, 29 को जारी होगी फाइनल सूची

सर्किल रेट प्रपोजल पर आपत्ति दर्ज कराने के लिए 25 सितंबर तक का समय दिया गया है. इस तिथि तक कोई भी व्यक्ति सर्किल रेट पर अपने सुझाव या आपत्ति दर्ज करा सकता है. 29 सितंबर को फाइनल सूची जारी कर दी जाएगी. 11 सितंबर को प्रशासन ने सर्किल रेट का प्रपोजल तहसीलवार जारी कर दिया था.

इस साल जमीनों के दाम कोई बढ़ोतरी नही की गई है. कछार एरिया में दस फीसदी की कमी हुई है. जो चाहे निर्धारित समय सीमा में अपनी आपत्ति दर्ज करा सकता है.

मार्तंड प्रताप सिंह,

एडीएम फाइनेंस एंड रेवेन्यू इलाहाबाद