- 22 निर्वाचित सांसदों पर दर्ज हैं गंभीर आपराधिक मामले

- पटना साहिब के रविशंकर और पाटलिपुत्र के रामकृपाल समेत सात हैं बेदाग

- जीतने वाले उम्मीदवारों में वैशाली की वीणा देवी हैं सबसे धनी

patna@inext.co.in
PATNA : समय और तारीख बदल रही है लेकिन राजनीति और अपराध दोनों एक दूसरे के पूरक हैं। यह हाल है बिहार के नवर्निवाचित सांसदों का। रविार को एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉ‌र्म्स (एडीआर) एवं बिहार इलेक्शन वॉच ने चुने गए 40 सीटों पर सांसदों के शपथ पत्र का विश्लेषण करने के बाद बताया कि बिहार के 56 फीसदी सांसदों पर गंभीर आपराधिक मामले हैं। जबकि बिहार के 82 फीसद सांसदों का रिकॉर्ड आपराधिक है। सांसदों के आपराधिक रिकॉर्ड का यह ग्राफ 2014 की तुलना में ऊपर जा रहा है। रिपोर्ट जारी करते हुए बिहार इलेक्शन वॉच के संयोजक राजीव कुमार और अधिवक्ता बीके सिंह ने बताया कि 2014 में 40 में से 28 सांसद दागी थे।

39 का किया विश्लेषण
हालांकि इस रिपोर्ट में सासाराम से बीजेपी सांसद छेदी पासवान के शपथपत्र का विश्लेषण नहीं किया जा सका है। 39 सांसदों के शपथपत्रों के आधार पर विश्लेषण रिपोर्ट तैयार की गई है। रिपोर्ट के अनुसार लोजपा और कांग्रेस के शत-प्रतिशत सांसदों का ट्रैक आपराधिक है। लोजपा के सभी छह और कांग्रेस के एकमात्र सांसद पर आपराधिक मामले हैं। हालांकि इनमें गंभीर आपराधिक मुकदमा सिर्फ लोजपा के तीन सांसद पर ही है। जदयू के 13 और भाजपा के 12 सांसदों पर भी मामले दर्ज हैं। इनमें से जदयू के आठ और भाजपा के 11 पर आपराधिक मुकदमा है। बेदाग बचे जो सांसद हैं, वे हैं- पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद और पाटलिपुत्र के सांसद रामकृपाल यादव।

83 प्रतिशत हैं करोड़पति
रिपोर्ट में आर्थिक द़ष्टिकोण से भी विश्लेषण किया गया है। जीते सांसदों में 33 अर्थात 83 प्रतिशत करोड़पति हैं। वैशाली की लोजपा सांसद वीणा देवी सबसे धनी हैं। इनकी संपत्ति 33 करोड़ 72 लाख 84 हजार 632 रुपये की है। इनकी देनदारी भी सर्वाधिक 11 करोड़ 20 लाख 89 हजार 220 रुपये है। इनके बाद भाजपा की शिवहर सांसद रमा देवी और मुजफ्फरपुर सांसद अजय निषाद क्रमश: दूसरे और तीसरे नंबर के धनवान प्रत्याशी हैं। सबसे कम संपत्ति वाले अररिया के भाजपा सांसद प्रदीप कुमार सिंह हैं। इनके पास 50 लाख 10 हजार 577 रुपये की संपत्ति है। जीते 40 सांसदों में दो आठवीं पास, छह दसवीं पास, तीन बारहवीं पास, तेरह स्नातक, छह स्नातक प्रोफेशनल, आठ पोस्ट ग्रेजुएट और एक डॉक्टरेट हैं।