- राजधानी में 50 हजार घरों के सामने से गुजर रही है पीएनजी पाइपलाइन

- पिछले 11 सालों में अब तक 6500 घरों में ही हो रहा पीएनजी का प्रयोग

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW:

न लाइन लगानी है, न सिलेंडर खत्म होने पर बुकिंग करानी है और तो और यह एलपीजी की तुलना में सस्ती और सुरक्षित भी है. इसके इसके बाद भी राजधानी में पाइप्ड नेचुरल गैस (पीएनजी) लेने वाले नहीं मिल रहे हैं. यह हाल तब है जब ग्रीन गैस लिमिटेड कंपनी के लोग घर-घर जाकर लोगों को इसके किफायती दाम और फायदे बता रहे हैं, लेकिन लोग 'नो इंट्रेस्ट' कहकर कंपनी के प्रतिनिधियों को वापस कर रहे हैं.

नहीं आई कोई शिकायत

ग्रीन गैस लिमिटेड के अधिकारियों के अनुसार राजधानी के विभिन्न इलाकों में पीएनजी देने के लिए पाइप लाइन बिछाने का काम पूरा हो गया है. जब इसकी शुरुआत हुई थी तो लगा था कि ग्राहकों की संख्या तेजी से बढ़ेगी. एलपीजी से सस्ती होने के कारण कॉमर्शियल क्षेत्रों में इसे हाथों-हाथ लिया जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. पिछले 11 सालों में राजधानी में इसके केवल 6500 उपभोक्ता ही बने. अभी तक पीएनजी को लेकर किसी के यहां से किसी हादसे की शिकायत नहीं आई है.

दुर्घटना का चांस कम

खास बात यह है कि जिस तरह घर में नलों का कनेक्शन किया जाता है, उसी तरह इसका कनेक्शन भी किया जाता है. एलपीजी फटने पर बड़ा हादसा हो सकता है लेकिन पीएनजी की पाइप लाइन में भी आग लग जाए तो हादसा नहीं होगा. इसका कारण है कि एलपीजी निकल कर जमीन पर गिर जाती है और उसमें आग लगती है. वहीं पाइप से बाहर आने पर पीएनजी तेजी से ऊपर की तरफ जाती है. ऐसे में आग लगने का खतरा कम रहता है.

जगह-जगह बने चैम्बर

साथ ही थोड़ी-थोड़ी दूरी पर पीएनजी के चैम्बर बनाए गए हैं. जैसे तार टूटने पर स्वत: बिजली की सप्लाई ठप हो जाती है, उसी तरह से पीएनजी सप्लाई की पाइप लाइन में किसी तरह की समस्या आने पर यह चेम्बर अपने आप उस तरफ की सप्लाई बे्रक कर देते हैं, जिधर से दिक्कत आ रही है. फिर घरों में इसका कनेक्शन सीधे गैस चूल्हे से होता है. पास ही मीटर लगाया जाता है, जिसकी रीडिंग के अनुसार कस्टमर को बिल पेमेंट करना होता है.

हमारी कंपनी के अधिकारी और कर्मचारी पीएनजी का प्रचार-प्रसार घर-घर जाकर कर रहे हैं. इसके बाद भी लोग बुकिंग नहीं करा रहे हैं. यह हाल तब है जब यह सुरक्षित, सस्ती और हर समय उपलब्ध है. जिस तरह से बिजली का बिल चुकाते हैं, उसी तरह इसका भी बिल चुकाना पड़ता है.

जिलेदार

एमडी, ग्रीन गैस लिमिटेड

यहां बिछ चुकी है पीएनजी लाइन

गोमती नगर-विशाल खंड, विपुलखंड, विभूतिखंड, विपिनखंड, विराजखंड.

इंदिरानगर- सेक्टर 8, 9 और 12

कानपुर रोड- एलडीए कॉलोनी और आशियाना

रायबरेली रोड- साउथ सिटी और वृंदावन योजना

यहां चल रहा काम

गोमती नगर में विनीत खंड और विश्वास खंड

इंदिरानगर में सेक्टर डी और 10

किफायती है पीएनजी

चार लोगों की फैमिली वाले घर में औसतन एक सिलेंडर एक माह चलता है. जिसका खर्च लगभग 500 रुपए आता है. वहीं पीएनजी में घटकर यह खर्च लगभग 400 रुपए हो जाता है.