क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : आखिरकार छह माह के बाद रांची समेत झारखंड के सभी पीडीएस शॉप्स पर अक्टूबर माह से लाभुकों के लिए नमक उपलब्ध रहेगा. खाद्य आपूर्ति निदेशालय ने नमक की आपूर्ति के लिए नई एजेंसी से करार करने जा रही है. शुरू में तीन महीनों के लिए एजेंसी से नमक की खरीदारी की जाएगी. अगर इसकी क्वालिटी बेहतर रही तो आगे के लिए भी एजेंसी को नमक की आपूर्ति का जिम्मा दे दिया जाएगा.

खरीदारी की चल रही प्रक्रिया

खाद्य आपूर्ति निदेशालय के निदेशक सुनील कुमार सिन्हा ने बताया कि नमक की खरीदारी के लिए प्रक्रिया पूरी की जा रही है. पहले चरण में अक्टूबर से दिसंबर महीने तक के लिए नमक खरीदी जाएगी. इस दौरान नमक की क्वालिटी को लेकर अगर किसी तरह की शिकायत नहीं मिलती है तो इसी नमक की आपूर्ति जारी रखी जाएगी.

मार्च से उपलब्ध नहीं है नमक

इस साल मार्च महीने से ही पीडीएस शॉप्स से लाभुकों को नमक नहीं मिल रही है. लाभुकों द्वारा नमक के काला होने की शिकायत किए जाने के बाद खाद्य आपूर्ति निदेशालय ने नमक की आपूर्ति पर रोक लगा दी थी. इसके बाद से ही पीडीएस दुकानों पर लाभुकों को नमक नहीं मिल पा रहा था. अब नमक आपूर्ति के लिए नई एजेंसी तलाशने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है. ऐसे में अक्टूबर से पीडीएस दुकानों से लाभुकों को नमक मिलने की उम्मीद है.

आयरन ज्यादा होने से काला हो रहा था नम

खाद्य आपूर्ति निदेशालय के निदेशक सुनील कुमार सिन्हा ने बताया कि इस साल मार्च के पहले पीडीएस शॉप्स में लाभुकों को जो नमक दिया जा रहा था उसमें आयोडीन और आयरन ज्यादा था. इस कारण पानी में इसे डालने के साथ ही वह काला हो जा रहा था. लेकिन, लोगों को डर इस बात का था किनमक में कोई केमिकल मिला है इसलिए काला हो रहा है. ऐसे में उन्होंने नमक लेना बंद कर दिया था. ऐसे में सभी राशन डीलरों को निर्देश दिया कि जब तक नए नमक की आपूर्ति नहीं होती है तत्काल नमक बांटना बंद दें.

1.71 लाख मीट्रिक टन नमक की होगी खरीदारी

नई एजेंसी से शुरूआत में 1.71 लाख मीट्रिक टन नमक की खरीदारी की जाएगी. इस नमक को राज्य के सभी पीडीएस शॉप्स में उपलब्ध कराया जाएगा. मालूम हो कि पूरे राज्य में 57 लाख लाभुक हैं जिन्हें हर महीने एक केजी नमक दिया जाता है .