आगरा। शू फैक्ट्री में देर रात लगी आग विकराल रूप लेती गई। दमकलकर्मी और एयरफोर्स के जवान आग बुझाने में लगे रहे। करीब दस घंटे की मशक्कत के बाद सुबह तक आग बुझ सकी। तब तक फैक्ट्री में रखा रॉ मैटेरियल और तैयार माल खाक हो चुका था। आग से करोड़ों के नुकसान का आकलन किया जा रहा है।

थाना न्यू आगरा निवासी देवेंद्र सचदेवा की फ्रीगंज में विरोला इंटरनेशनल के नाम से जूते की फैक्ट्री है। फैक्ट्री में शुक्रवार की रात भीषण आग लग गई। फैक्ट्री में उस दौरान तीन गार्ड थे जिनमें संदीप, शिुशुपाल, रहीम खान थे। तीनों ने तेज धमाके की आवाज सुनी। गेट की खिड़की से अंदर देखा तो तेज रौशनी दिखाई दी जो ऊपर वाले माले से आ रही थी। वह समझ गए कि अंदर आग लगी है। आग ऊपर वाले माले से शुरु हुई थी।

सिस्टम नहीं कर पाया काम

वैसे तो फैक्ट्री में फायर एक्सि्टंगग्यूजर सिस्टम भी लगा था। जिसका कनैक्शन भी बाहर से था। फैक्ट्री के नीचे टैंक बना रखा है। जिसमें एक लाख लीटर पानी बताया गया है। आग लगने पर गार्ड ने पम्प चालू करने का प्रयास किया लेकिन वह शॉर्ट हो गया। इसके बाद सिस्टम काम नहीं कर पाया। इसके बाद आग ने पूरी फैक्ट्री में तांडव करना शुरू कर दिया था।

आस-पास के लोगों ने दिखाई तेजी

पास में ही राजेश राठौर का टी स्टॉल है। राजेश के मुताबिक रात में राजेश गुप्ता ने पुलिस कंट्रोल रूम फोन किया था। वह भी मौके पर आ गए थे। दो बजे तक आग बुझने का नाम नहीं ले रही थी। कोई अंदर नहीं जा पा रहा था। एयर फोर्स की दमकलें भी आई थी। डेढ़ दर्जन से अधिका दमकलें मौके पर पहुंची थी। आग पर सुबह साढ़े आठ बजे तक पूरी तरह से काबू किया जा सका था। भीषण आग में करोड़ों रुपये के नुकसान का अनुमान है।