छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) पूर्वी सिंहभूम की ओर से गुरुवार को एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का कार्यक्रम उपायुक्त कार्यालय के समक्ष आयोजित किया गया. इसमें उपायुक्त के माध्यम से केंद्रीय मंत्री जनजातीय कार्य मंत्री जुएल उरांव एबं झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास से छात्रों के विभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग की गई. इस दौरान धरने पर बैठे अभाविप कार्यकर्ताओं ने सरकार से कहा कि भीख नहीं अधिकार चाहिए, छात्रवृत्ति तत्काल चाहिए. इस प्रदर्शन में अभाविप के विश्वविद्यालय संयोजक अभिषेक सिंह, प्रदेश कोष प्रमुख अमिताभ सेनापति, कोल्हान विभाग संयोजक पिकलू घोष, विभाग संगठन मंत्री राजीव रंजन, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सागर राय, विभाग सह संयोजक अखिल कुमार, जिला संयोजक विवेक झा, महानगर मंत्री विवेक कुमार, मौसमी जैना, नीलकमल सिंह, बापन घोष, अंशु झा, अभय सिंह, प्रकाश तिवारी, प्रभाकर तिवारी आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे.

ये हैं अभाविप की मांगे

-सभी प्रकार की लंबित छात्रवृत्ति व शोधवृत्ति तत्काल जारी की जाये.

-राजीव गांधी शोधवृत्ति, राष्ट्रीय शोधार्थी शोधवृत्ति, प्री मैट्रिक व पोस्ट मैट्रिक सहित सभी छात्रवृत्ति व शोधवृत्ति 15 दिन के अंदर जारी करते हुए राज्यवार रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए.

-न्यूनतम छात्रवृत्ति 12,000 प्रतिवर्ष की जाए और उसी मात्रा में वर्गवार अधिकतम छात्रवृत्ति निश्चित करें.

-छात्रवृत्ति को मूल्य सूचकांक के साथ जोड़ा जाए ताकि समीक्षा हो व मंहगाई के अनुरूप बढ़ सके.

-अनुसूचित जाति, जनजाति और ओबीसी शोध शोधवृत्ति की संख्या में बढ़ोतरी की जाए.

-फैलोशिप एवं छात्रवृत्ति प्रत्येक माह समय पर मिले.

-देशभर में छात्रावासों की संख्या बढ़ाई जाए.

-छात्रावासों में छात्रों के विकास हेतु लाईब्रेरी, खेल साहित्य, कैरियर मार्गदर्शन और व्यक्तित्व विकास के प्रशिक्षण की सुविधा हो.

-स्पर्धा परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए निशुल्क कोचिंग और विशेष छात्रावासों की व्यवस्था प्रत्येक जिले में की जाए.

-एससी-एसटी छात्रवृत्ति में हुए घोटाले की जांच सीबीआई शीघ्र शुरू कर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए.

-मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना घोषणा के बावजूद धरातल पर नहीं होती है इसे अविलंब धरातल पर लाया जाए.