-मासूम की दुष्‍कर्म के बाद हत्या मामले में सड़कों पर जनाक्रोश

-आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग पर आईजी का किया घिराव

-बाजार में तोड़-फोड़, पुलिस ने भांजी लाठियां

dehradun@inext.co.in

उत्तरकाशी : उत्तरकाशी में किशोरी से सामूहिक दुष्‍कर्म और मर्डर के बाद रविवार को शहर में हर ओर अशांति फैली रही. बाजार बंद रहे और यातायात भी प्रभावित रहा. कुछ स्थानों पर उपद्रवियों ने दुकानों में तोड़फोड़ की. मामला संवेदनशील होने के चलते आईजी संजय गुंज्याल उत्तरकाशी में ही कैंप कर रहे हैं. जिले में एहतियातन पांच कंपनी पीएसी भी तैनात कर दी गई है, हालात संभालने के लिए दूसरे जिलों से भी फोर्स मंगाई गई है, इसके साथ ही सेना से भी प्रशासन ने मदद मांगी है. बताया जा रहा है कि इमरजेंसी के लिए सेना के 200 जवान रिजर्व में रखे गए हैं. गढ़वाल के पांच जिलों में इंटरनेट सेवा दूसरे दिन भी बंद रखी गई. आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग पर विभिन्न जिलों में कई संगठनों द्वारा प्रदर्शन किया गया और कैंडल मार्च निकालकर मासूम को श्रद्धांजलि दी गई.

बाजार में जमकर तोड़-फोड़

शुक्रवार रात परिवार के साथ बरामदे में सो रही 12 वर्ष की मासूम को दरिंदे उठा ले गए थे. सामूहिक दुष्‍कर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी. शनिवार सुबह से ही उत्तरकाशी में जनाक्रोश भड़कने लगा था. हालात को भांप पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की, लेकिन सफलता नहीं मिली. रविवार सुबह जिले में विभिन्न स्थानों पर लोग सड़कों पर उतर आए और प्रदर्शन कर अफसरों का घिराव किया. उत्तरकाशी और डुंडा बाजार बंद रहे. वाहनों की आवाजाही भी नहीं हो पाई. हालात का जायजा लेने पहुंचे आईजी संजय गुंज्याल को भी जबरदस्त विरोध का सामना करना पड़ा. कुछ देर बाद ही भीड़ ने बाजार में तोड़-फोड़ शुरू कर दी. पुलिस ने लाठियां फटकारकर भीड़ को तितर-बितर किया. गुस्साई महिलाओं ने दरांती के साथ प्रदर्शन किया.

पुलिस के पहरे में अंत्येष्टि

रविवार को प्रदर्शनकारियों ने मासूम का शव अस्पताल से नहीं उठाने दिया. शाम को डीएम और पुलिस जिला अस्पताल पहुंची और परिजनों से बातचीत की. इस दौरान भीड़ नारेबाजी करती रही. बाद पुलिस ने लाठियां फटकार भीड़ को खदेड़ा. इसके बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया. बताया जा रहा है कि जिलाधिकारी ने परिजनों को आश्वस्त किया है कि एक सप्ताह में मामले का खुलासा कर दिया जाएगा.

12 संदिग्धों से पूछताछ

दिनभर एसटीएफ, डॉग स्क्वॉयड और पुलिस की टीम मौके के मुआयने के साथ ही जांच में जुटी रही. डीआईजी पुष्पक ज्योति हिरासत में लिए गए 12 संदिग्धों से स्वयं पूछताछ कर रहे हैं. अब तक की प्रगति की जानकारी देते हुए आईजी संजय गुंज्याल ने कहा कि पुलिस टीम जांच में वैज्ञानिक तकनीक की मदद ले रही है. उन्होंने कहा कि इसमें डीएनए टेस्ट की भी मदद ली जाएगी.