- 2500 से कम में सहारनपुर की सैर

- 18 मंडलों से जोड़ने की तैयारी

- एयरबस 320, बोइंग 747 भी उतरेंगे

यूपी सकरार की नई सिविल एविएशन पॉलिसी से 'हवा' में मुसाफिर

लखनऊ से इलाहाबाद उडि़ए 1000 पर हेड

- यूपी की नई सिविल एविएशन पॉलिसी का दिखने लगा असर

- पहली बार नये रूटों पर जहाज उड़ाने को तैयार एयरलाइंस कंपनियां

- डेढ़ साल के भीतर यूपी में हवाई यात्रा का सफर और होगा सुहाना

ashok.mishra@inext.co.in
LUCKNOW: महज 1000 रुपये में हवाई जहाज से सफर करना भले ही कुछ समय पहले तक असंभव बात लगती हो पर राज्य सरकार की नई सिविल एविएशन पॉलिसी ने इसे सच कर दिखाया है. जी हां, अगर आपको लखनऊ से इलाहाबाद जाना है तो अपनी कार में कम से कम 1500 रुपये का पेट्रोल डलवाना होगा. इतना ही पैसा वापसी में भी खर्च होगा. वहीं अगर आप जेट एयरवेज से लखनऊ से इलाहाबाद का सफर करते हैं तो करीब 1000 रुपये खर्च करने होंगे. इसी तरह जल्द ही लखनऊ से सहारनपुर का हवाई सफर भी 2500 रुपये से कम किराए में किया जा सकेगा. खास बात यह है कि अब इसमें एयरलाइंस कंपनियां भी खासी रुचि दिखा रही हैं और लगातार ऐसी उड़ानों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है.

एयरपोर्ट की राह भी आसान
इतना ही नहीं, राज्य सरकार ने एयरपोर्ट तक जाने के लिए भी मुकम्मल बंदोबस्त करने शुरू कर दिये है. नई एविएशन पॉलिसी में वादा किया गया है कि एयरपोर्ट तक अच्छी सड़क बनाने का काम सरकार करेगी, साथ ही यात्रियों को वहां तक पहुंचाने के लिए डेडिकेटेड बस सर्विस का इंतजाम भी किया जाएगा. यहीं नहीं, एयरपोर्ट की सुरक्षा, मुफ्त में फायर सर्विस, सस्ती दरों पर बिजली, मुफ्त पानी, एंबुलेंस और मेडिकल फैसिलिटी भी राज्य सरकार मुहैया कराएगी. दरअसल सूबे में अभी तक कोई सिविल एविएशन पॉलिसी नहीं बनी थी. पिछले साल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इसे तैयार किया गया फिर भी एयरलाइंस कंपनियों की कुछ दक्कितों का समाधान नहीं हो सका. राज्य सरकार ने उन्हें इन दिक्कतों को दूर करने का भरोसा दिलाया जिसके बाद उन्होंने सूबे में नए एयरपोर्ट पर उड़ानें शुरू करने का फैसला लिया. राज्य सरकार ने पिछले महीने सिविल एविएशन पॉलिसी में कुछ अहम बदलाव कर अपना वादा पूरा भी किया. सरकार ने अपने अधिकारियों को भी रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत हवाई यात्रा की अनुमति प्रदान की. जो इसके लिए अर्ह नहीं थे, उन्हें भी वरिष्ठ अधिकारी की अनुमति से इसका इस्तेमाल करने की इजाजत दी गयी है.

डेवलपमेंट पर भी असर
सिविल एविएशन डिपार्टमेंट के अफसरों की मानें तो इससे सूबे के विकास की रफ्तार भी तेज होगी. शुरुआत में एक-एक फ्लाइट का ऑपरेशन शुरू किया गया है जो जल्द ही बढ़ता जाएगा. इतना बड़ा प्रदेश होने की वजह से अक्सर टूरिस्ट एक कोने से दूसरे कोने तक जाने में घंटों की यात्रा करने से कतराते थे जो अब मिनटों में वहां पहुंच सकेंगे. रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम से लाखों लोगों को रोजगार भी मिलेगा क्योंकि पर्यटन स्थलों तक लोगों की पहुंच से इसकी संभावनाएं बढ़ेंगी. बड़ी तादाद में होटल इत्यादि का निर्माण होगा और पर्यटन से जुड़े हर तरह के कारोबार में इजाफा होता जाएगा. इसी वजह से सूबे के सभी 18 मंडलों को हवाई यात्रा से जोड़ने की कवायद की जा रही है.

बीकेटी एयरफोर्स स्टेशन से भी संचालन
खास बात यह है कि यदि रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत उड़ानों की संख्या बढ़ने से राजधानी के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर एयर ट्रैफिक कंजेशन की दिक्कत आती है तो इस सूरत में बख्शी का तालाब स्थित एयरफोर्स स्टेशन से भी उड़ानों को संचालित किया जाएगा. इस एयरपोर्ट पर एयरबस 320 और बोइंग 747 जैसे हवाई जहाज भी उतारे जा सकेंगे.

इन जगहों से होंगे ऑपरेट
सहारनपुर, मेरठ, मुरादाबाद, झांसी, चित्रकूट, आजमगढ़, अलीगढ़, सोनभद्र(मिर्जापुर), श्रावस्ती, बरेली, इलाहाबाद, गोरखपुर, वाराणसी, आगरा, कुशीनगर, हिंडन (गाजियाबाद), पलिया (लखीमपुर खीरी), बस्ती.

टॉप टूरिस्ट डेस्टिनेशन
आगरा, वृंदावन, मथुरा, वाराणसी, कुशीनगर, इलाहाबाद, लखनऊ, नैमिषारण्य, अयोध्या, झांसी, चित्रकूट, सारनाथ, दुधवा, चंद्रप्रभा, महोबा, चुनार, देवगढ़.

प्रदेश में जबसे भाजपा सरकार बनने के बाद हवाई यात्रा से जुड़े कई अहम फैसले लिए गये हैं. पहले लखनऊ, वाराणसी, गोरखपुर और इलाहाबाद से विमान सेवा की सुविधा थी. अब आगरा और कानपुर से भी शुरू हो गयी है. हर महीने यात्रियों को सस्ती हवाई यात्रा कराने के लिए नए फैसले लिए जा रहे हैं. आरसीएस के तहत प्रदेश में नौ नए एयरपोर्ट बनाए जा रहे हैं.

नंद गोपाल गुप्ता 'नंदी'

नागरिक उड्डयन मंत्री

तीन शहरों से हवाई यात्रा की शुरुआत
वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने आवास से बुधवार को स्पाइस जेट की पांच नई उड़ानों का शुभारंभ किया. अब गोरखपुर, वाराणसी और कानपुर से बंगलुरु, कोलकाता और मुंबई की उड़ाने शुरू हो गईं. इस मौके पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में विमानन सेवा में तेज प्रगति हो रही है. 'सब उड़ें सब जुड़ें' का सपना साकार करने में प्रदेश सरकार जुटी है. सस्ती विमान सेवा के लिए स्पाइस जेट को मुख्यमंत्री ने बधाई दी. इस अवसर पर स्पाइस जेट के अधिकारियों ने इन तीनों शहरों से बंगलुरू, कोलकाता और मुंबई के लिए मुख्यमंत्री के नाम बोर्डिंग पास जारी कर उड़ान शुरू किए जाने की घोषणा की. प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने कहा कि आज से गोरखपुर से बंगलुरू, वाराणसी से बंगलुरू और कोलकाता और कानपुर से मुंबई और कोलकाता के लिए स्पाइस जेट की सीधी उड़ानें शुरू हो गईं. बहुत जल्द स्पाइस जेट और नई उड़ानों को प्रदेश से शुरू करेगा.